शुक्रवार, 26 अप्रैल 2019

चमत्कार देखिये : एक ग़ज़ल

वादों पे वादों की भरमार देखिये 
सिसायत में हो रहे चमत्कार देखिये   

रोटी नहीं सबकी थाली में फिर भी 
वज़ीरे आज़म के माथे अहंकार देखिये 

दे रहे ज़ख्म अब मंदिर औ मस्जिद 
नए नए ईश्वर का अवतार देखिये 

ख़बरों में ढूंढें नहीं मिलेगा आदमी 
किसी भी दिन कोई अखबार देखिये 

ताले जड दिए हैं हमने दरवाजों पर 
सांकल बजा लौट गया इन्तजार देखिये 

सूखे आसमा भी बरसेंगे एक दिन  
गा रहा कहीं कोई मल्हार देखिये 


(बिना तकनीकी ज्ञान और इसके पक्ष को देखते हुए ग़ज़ल की कोशिश) 

5 टिप्‍पणियां:

  1. ग़ज़लनुमा रचना है यह किन्तु ग़ज़ल नहीं है अरुण जी! लेकिन जो बात आपने कहनी चाही है, उसमें आप सफल रहे हैं, जो इस रचना की सफलता है!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी सलिल जी । ग़ज़ल लिखना विज्ञान है। तकनीक है। कठिन भी ।

      हटाएं
  2. बहुत खूब ... इसको बेहतरीन और लाजवाब शेरोन का संकलन भी कह सकते हैं ... अपनी बात को बेबाकी से कह रहा है हर शेर ...

    जवाब देंहटाएं
  3. my website is mechanical Engineering related and one of best site .i hope you are like my website .one vista and plzz checkout my site thank you, sir.
    <a href=” http://www.mechanicalzones.com/2018/11/what-is-mechanical-engineering_24.html

    जवाब देंहटाएं