मंगलवार, 19 सितंबर 2017

अचानक



कल तक जो पेड़
हरे थे पत्तियों की वजह से
अचानक वे हरी पत्तियां
हो जाएँ लाल
रिसे उनसे टिप टिप लहू
क्या बैठ सकती हैं
उन शाखों पर
नन्ही चिड़िया
गा सकती हैं
क्या फुदक फुदक कर
चीं चीं . 

गुरुवार, 14 सितंबर 2017

हिंदी : कुछ क्षणिकाएं



रौशनी जहाँ
पहुंची नहीं
वहां की आवाज़ हो
भाषा से
कुछ अधिक हो
तुम हिंदी


खेत खलिहान में
जो गुनगुनाती हैं फसलें
पोखरों में जो नहाती हैं भैसें
ऐसे जीवन का तुम संगीत हो
भाषा से
कुछ अधिक हो
तुम हिंदी

बहरी जब
हो जाती है सत्ता
उसे जगाने का तुम
मूल मंत्र हो
भाषा से
कुछ अधिक हो
तुम हिंदी.

४ 
तुम मेरे लिए
मैथिली, अंगिका, बज्जिका
मगही, भोजपुरी
सब हो 

मंगलवार, 12 सितंबर 2017

मद्धम आंच

मद्धम आंच पर
पकती हैं
नरम रोटियां

मद्धम आंच पर ही
पकता है
कुम्हार का दिया और घड़ा
दिया जो आग से जलकर
रौशनी देता है
घड़ा जो पानी को सहेजता है
अपने भीतर

मद्धम आंच में
नहीं होता है
अहंकार
अट्टहास

मद्धम आंच पर
सिझता है प्रेम
धीरे धीरे सहजता से . 

गुरुवार, 7 सितंबर 2017

हत्यारा

यह समय
अनुकूल है
हत्या के लिए
अनुकूल है
हत्यारों के लिए भी .

हटा दो
जन्मजात बच्चो की नाक से लगी
आक्सीज़न की नली
यही नली लगा दो
किसानो के गले में
और उन्हें लटका दो
किसी पेड़ से या फिर छत से
या फिर किसी बिजली के खम्भे से

छेद दो गोलियों से
विरोधियों की कनपट्टी
ताकि उनकी आवाज़
न पहुचे सत्ताधीशों तक
न पहुचे आमजनों तक

किसी युवा को
थमा दो हथियार
दे दो निर्देश
किसी के भी धड से
अलग कर देने को गर्दन
जिनके विचार तुम्हारे विचार से
मेल नहीं खाते

यह समय
अनुकूल है
हत्या के लिए
अपने अपने तर्क
छुपा दो तकिये के नीचे . 

सोमवार, 4 सितंबर 2017

युवा

जब उसकी उम्र
स्कूल जाने की थी
वह उठा रहा था
किसी ढाबे में जूठे बर्तन

जबकि वह लिखना चाहता था
काली स्लेट पर
सफ़ेद चाक से उजाला
वह रगड़ रगड़ कर
चमका रहा था
कडाही और तवे की काली पेंदी

उसकी पीठ पर
होना चाहिए था बस्ता
वह तेज़ी से उठाता था
लकड़ी के गट्ठर
कोयले की बोरी
गेंहू धान का बोझ

उम्र बीतते देर कहाँ लगती
वह अब लिखता है
आसमान की छाती पर
कोलतार से बेकारी
सरकार कहती है
युवा है देश
तालियों की गडगडाहट में
वह ढूंढता है खुद को .

शनिवार, 2 सितंबर 2017

सड़क

सड़कें
कहीं नहीं पहुँचती
पहुंचाती है
यात्री को।

यात्री
सड़क के बिना
नहीं पहुच सकते
कहीं भी
मंजिल यदि साध्य है
सड़कें साधन।

सड़कें
धरती को नहीं छोड़ती
जो धरती को छोड़ते हैं
औंधे मुँह गिरते है
किसी न किसी मोड़ पर

मैं बने रहना चाहता हूँ
सड़क
तुम पाना अपनी मंजिल
यहीं से गुज़रते हुए। 

शुक्रवार, 25 अगस्त 2017

कभी बात करना वृक्षों से

मित्र
कभी बैठना पल दो पल
वृक्षों के निकट
करना उनसे बाते .

वे कभी नहीं करेंगे
कोई शिकायत अपने हत्यारे के बारे में
जानते हुए कि तुम उन लोगों में शामिल हो
उनके साथ खड़े हो
जिन्होंने की है वृक्षों की हत्या
वे कोई शिकायत नहीं करेंगे
उनके पत्ते मुस्कुराएंगे
हवा के झोके के साथ
अपनी गहरी छाया में वे तुम्हे
तब तक बिठाएंगे जब तक तुम स्वयं
उठकर चले न जाओ .

समय जब नहीं इन दिनों दुनिया के पास
दुनिया एक ही दिशा में भागी जा रही है
मंजिल अस्थायी हो गए हैं और निरंतर विस्थापित हो रहे हैं
वृक्ष टिके रहते हैं जड़ों के साथ
जब तक कि हम तुम उन्हें
जड़ समेत उखाड़ न फेंके
फिर भी अंतिम सांस तक लड़ते हैं वृक्ष .

वृक्ष के पास हमारी तुम्हारी तरह
शब्द नहीं होते
वे संवाद करते हैं
रंगों से , हवा की तरंगों से
वे उदास होते हैं तो चुप हो जाते हैं
उनके पत्ते,
दुःख में वे पीले पड जाते हैं और सुख में गहरे हरे
उन जैसा रंग हम बना नहीं सकते
फिर भी वृक्षों के पास नहीं कोई अहंकार

कभी बैठना पल दो पल
हो सके तो सीखना
बिना शब्दों के संवाद, टिके रहना
और तो और हत्यारे के साथ रहना .