गुरुवार, 13 जून 2019

लू

1 . 

गरम हवाएं
जला रही है चमड़ी
एक ओर
दूसरी ओर
साहब लोगों ने
कम कर दिया है
वातानुकूलन यंत्र का तापमान
और गिना रहे हैं कि
किन किन कारणों से
चल रही है गरम हवाएं
विश्लेषण कर रहे हैं कि
 क्यों बढ़ा हुआ है तापमान
क्यों कम हो रही बारिश
क्यों गिर रहा है भूजल का स्तर ?

2 . 

मोबाइल के स्क्रीन पर देख कर
दिन का तापमान
उनकी चिंताएं बढ़ जाती है अचानक
और वे सक्रिय  हो जाते हैं
साझा करते हैं दुनिया से अपनी चिंता
अलग अलग माध्यमों से
जैसे फेसबुक, ट्विटर
लेख या फिर मित्रों के साथ
सामूहिक गप्प बाज़ी में


3 . 

धूप  में न निकलने, खूब पानी पीने
लू से बचने आदि आदि जैसे सलाहों के साथ
सरकारी परामर्शी पत्र  जारी करने वाले
नहीं जानते कि
लू क्या हराएगा उसे
जिसे डर लगता हो ठंढे तवे से
गर्म तवे के मुकाबले होती है
लू के ताप की तासीर बेहद  ठंढी। 

बुधवार, 29 मई 2019

मिट्टी

मिट्टी
खुद को मिटा कर भी 
नहीं मिटती 
वह धर  लेती है 
गढ़ लेती है 
नया आकार , नया रूप 

मिट्टी 
आग में तप कर 
पत्थर हो जाती है 
फिर भी ठंढी रखती है 
अपनी तासीर 
स्वाद रखती है 
अपनी जिह्वा पर 

मिट्टी 
जितना सोखती है 
धूप अपने भीतर 
उतनी ही सोंधी होती है 
उसकी महक 

ध्वस्त हो जायेंगे ये भवन ,
गिर पड़ेंगी  ये अट्टालिकाएं 
मिट जाएँगी सीमायें और संस्कृतियां 
बस बची रहेगी मिट्टी
सदा सदा के लिए।  

शुक्रवार, 24 मई 2019

जनता की आकांक्षा को समझने में असफल रहे राजनीतिक दल

जनता की आकांक्षा को समझने में असफल रहे राजनीतिक दल
- अरुण चन्द्र रॉय 

पंडित नेहरू के बाद नरेन्द्र मोदी दूसरे ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने लगातार दो बार अपने दल को लोकसभा चुनाव में जिताया है।  जब देश के लगभग सभी राजनीतिक दल एकजुट होकर भाजपा का विरोध कर रही हो ऐसे समय में चुनाव के जो नतीजे आयें हैं वह चौकाने वाला आया है।  लेकिन यह चौकाने से अधिक राजनीतिक दलों को सीख देने वाला नतीजा है क्योंकि इस तरह के नतीजे केवल तभी आते हैं जब जातिगत समीकरणों, धार्मिक ध्रुवीकरण के चक्रव्यूह को तोड़कर वोटर वोट करे।  
अभी तक जिस तरह के चुनाव देखते आये थे, राजनीतिक दलों ने वोटरों को जाति और धर्म के आधार पर तौलते थे, वे अपने उम्मीदवार का चुनाव जातिगत समीकरणों और धार्मिक समीकरणों के आधार पर किया करते थे और इस बार भी ऐसा ही हुआ था।  विभिन्न राज्यों में जाति एवं धर्म के आधार पर उम्मीदवारों का चयन किया और गठबंधन का आधार भी यही रहा. किन्तु चुनाव के परिणामों ने यह दिखा दिया कि इतने बड़े लोकतंत्र में जन संवाद करके बिना जाति और धर्म को आधार बना कर बदलाव कर सकती है।  
लोकसभा चुनाव के नतीजो से यह भी स्पष्ट हो रहा है कि जनता ने अवसरवादी और परिवारवाद के विरुद्ध वोट किया है।  भाजपा को जहाँ संघ से कैडर सहयोग मिल रहा है वहीँ पार्टी ने जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं से नियमित संवाद बनाए रखा है।  इस चुनाव में पार्टी ने अपने लगभग आधे सांसदों को फिर से चुनाव लड़ने का मौका नहीं दिया जिन्होंने  जनता से संवाद नहीं रखा।  भाजपा के अतिरिक्त जो विपक्षी पार्टियां मैदान में थी वे अदिकांशतः किसी निजी कंपनियों की तरह चलाई जा रही हैं और वर्षों से परिवार का नेतृत्व है जिसमे आम कार्यकर्ताओं के लिए कोई स्थान नहीं।  चुनावी नतीजों ने बता दिया है कि भारतीय राजनीति में परिवारवाद, वंशवाद और अवसरवाद के लिए कोई स्थान नहीं।  
मुझे लग रहा है  कि राजनीतिक दलों ने जनता के मुद्दों और जनता के आकांक्षाओं को समझने में भूल कर दी।  सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाएँ जो जनता को सीधे सीधे प्रभावित करती हैं, उन योजनाओं की जब विपक्षी दलों द्वारा आलोचना की गई जिसे जनता ने अस्वीकार कर दिया।  स्वच्छता अभियान, जन धन योजनायें, डाइरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर, मुद्रा योजना, आर्थिक आधार पर आरक्षण, बुनकरों के लिए योजनायें, प्रधानमन्त्री पेंशन योजना, प्रधानमन्त्री आवास सब्सिडी योजना, आयुष्मान योजना, उज्जवला योजना, घर घर बिजली योजना  आदि  कुछ ऐसी योजनायें थी जिससे बड़ी संख्या में जनता को प्रत्यक्ष लाभ मिला और उनके जीवन स्तर में सुधार हुआ।  यही सुधार वोट में बदला ऐसा प्रतीत होता है।  जबकि विपक्ष ने अलग अलग मंचो पर इन योजनाओं पर तंज़ ही कसा।  इस तंज का उत्तर जनता ने वोट के माध्यम से प्रकट किया है।  जिस देश में स्वतंत्रता के सात दशकों के बाद भी रोज़ी-रोटी, शौचालय, शिक्षा आदि मुद्दे ज्वलंत हों, वहां परिवारवाद और अवसरवाद से ऊपर उठकर नेतृत्व करना होगा और जनता भी यही चाहती है।  

समग्र नेतृत्व और नेतृत्व का एक चेहरा चमत्कार पैदा करता है और भारतीय जनमानस चमत्कार में विश्वास करती है। जनता को  मोदी के नेतृत्व में  चमत्कार करने और समय बदलने का माद्दा दिखा और उसने इसे जाहिर कर दिया।  दूसरी ओर विपक्ष के पास न विचारधारा की एकजुटता हो सकी, न मुद्दों पर राय बनी और न कोई स्पष्ट नीति।  इसके फलस्वरूप कोई एक चेहरा उभर नहीं पाया जिसमे जनता अपना विश्वास दिखा सकी ।  

इन नतीजों ने सत्ताधारी दल को सत्ता में लौटाने के साथ बड़ी चुनौती भी दी है और यह चुनौती है जनता की आकांक्षाओं को पूरा करने की जिसमे युवाओं के पास शिक्षा और रोज़गार के पर्याप्त अवसर हों, बेहतर स्वास्थ्य देखरेख हो और बिना जातीय और धार्मिक भेदभाव के अवसर प्राप्त हों।  यही नई भारत की संकल्पना है , यही नई सरकार का लक्ष्य भी होना चाहिए।  

******

मंगलवार, 30 अप्रैल 2019

घृणा



घृणा से उपजी ऊर्जा से 
पिघला कर इस्पात 
बनती हैं तलवारें, बंदूकें 
बम्ब और बारूदें 
बम वर्षक विमानें 
मरते हैं आदमी 
मरती है आदमीयता 

तुम ऐसा करना 
तुम्हारे भीतर जो हो किसी से घृणा 
उसे शब्दों में देना ढाल 
देखना बनेगी 
दुनिया की सबसे खूबसूरत कविता 

कवितायेँ नहीं करती 
रक्तरंजित इतिहास 
वे तिनका हो जाती हैं 
जब डूब रही होती हैं मानवता।    

शुक्रवार, 26 अप्रैल 2019

चमत्कार देखिये : एक ग़ज़ल

वादों पे वादों की भरमार देखिये 
सिसायत में हो रहे चमत्कार देखिये   

रोटी नहीं सबकी थाली में फिर भी 
वज़ीरे आज़म के माथे अहंकार देखिये 

दे रहे ज़ख्म अब मंदिर औ मस्जिद 
नए नए ईश्वर का अवतार देखिये 

ख़बरों में ढूंढें नहीं मिलेगा आदमी 
किसी भी दिन कोई अखबार देखिये 

ताले जड दिए हैं हमने दरवाजों पर 
सांकल बजा लौट गया इन्तजार देखिये 

सूखे आसमा भी बरसेंगे एक दिन  
गा रहा कहीं कोई मल्हार देखिये 


(बिना तकनीकी ज्ञान और इसके पक्ष को देखते हुए ग़ज़ल की कोशिश)