शुक्रवार, 15 जून 2018

प्रोफ़ेसर

अंग्रेजी के महत्वपूर्ण कवि निसीम एजेकील की एक प्रसिद्द कविता है- प्रोफ़ेसर . इसका हिंदी अनुवाद करने की कोशिश की है .

प्रोफ़ेसर 
---------------
क्या मैं याद हूँ तुम्हे ? मैं हूं प्रोफेसर सेठ ।
कभी मैं ने भूगोल पढ़ाया था तुम्हे
अब हूँ सेवानिवृत्त तथापि अच्छा है मेरा स्वास्थ्य।
मेरी पत्नी कुछ साल पहले गुज़र गईं ।
ईश्वर की कृपा से, मेरे सभी बच्चे
जीवन में अच्छी तरह से व्यवस्थित हैं
एक सेल्स मैनेजर है,
एक है बैंक मैनेजर
दोनों के पास कारें हैं, फ़्लैट है
अन्य भी ठीक-ठाक जीवन व्यतीत कर रहे , हालांकि वे इतने समृद्ध नहीं ।
हर परिवार में एक बेगार होना चाहिए
सरला और तारला विवाहित हैं,
उनके पति बहुत अच्छे व्यक्ति हैं
तुम विश्वास नहीं करोगे लेकिन मेरे पास ग्यारह पोते-पोतियां हैं।
तुम्हारे कितने बच्चे हैं? दो या तीन?
अच्छा है। यह परिवार नियोजन का दौर है
मैं खिलाफ नहीं हूँ इसके , हमें समय के साथ बदलना चाहिए
पूरी दुनिया बदल रही है, भारत भी
हम बदलाव के साथ चल रहे हैं। हमारे विकास का हो रहा है विकास ।
पुराने मूल्य जा रहे हैं, नए मूल्य आ रहे हैं
सब कुछ बदल रहा है बहुत तेज़ी से फर्राटा भरते हुए
मैं अब बाहर कम ही निकलता हूँ, यदा कदा
यह केवल बुढापे के लक्षण हैं किन्तु
मेरा स्वास्थ्य बिलकुल ठीक है, रहता है सामान्य दर्द जोड़ों में ।
नहीं है मुझे कोई मधुमेह, कोई रक्तचाप,
दिल का दौरा भी नहीं पड़ा कभी मुझे।
यह संभव हुआ है मेरी युवाकाल की आदतों की वजह से।
तुम्हारा स्वास्थ्य कैसा रहता है?
अच्छा न ? मैं बहुत खुश हूं यह सुनकर !
इस साल मैं उनहत्तर साल का हो गया हूँ
और शतक लगाने की उम्मीद है।
कभी तुम कितने पतले थे, छड़ी की तरह,
अब तुम्हारा वजन बढ़ गया है , समृद्धि की वजह से ।
अरे ! मैं तो मजाक कर रहा था ।
कभी तुम्हारा इधर से फिर गुज़ारना हो तो
आना मेरे घर
इस मकान के पीछे वाली गली में मैं रहता हूँ
कभी तुम्हे भूगोल पढ़ाने वाला प्रोफ़ेसर ।
निसीम एजेकिल
-------------------------------------------------------
Original Poem
Professor
Remember me? I am Professor Sheth.
Once I taught you geography. Now
I am retired, though my health is good.
My wife died some years back.
By God's grace, all my children
Are well settled in life.
One is Sales Manager,
One is Bank Manager,
Both have cars.
Other also doing well, though not so well.
Every family must have black sheep.
Sarala and Tarala are married,
Their husbands are very nice boys.
You won't believe but I have eleven grandchildren.
How many issues you have? Three?
That is good. These are days of family planning.
I am not against. We have to change with times.
Whole world is changing. In India also
We are keeping up. Our progress is progressing.
Old values are going, new values are coming.
Everything is happening with leaps and bounds.
I am going out rarely, now and then
Only, this is price of old age
But my health is O.K. Usual aches and pains.
No diabetes, no blood pressure, no heart attack.
This is because of sound habits in youth.
How is your health keeping?
Nicely? I am happy for that.
This year I am sixty-nine
and hope to score a century.
You were so thin, like stick,
Now you are man of weight and consequence.
That is good joke.
If you are coming again this side by chance,
Visit please my humble residence also.
I am living just on opposite house's backside.
Nissim Ezekiel

गुरुवार, 14 जून 2018


उसने मुझे गालियाँ दीं
मैं सुनता रहा
वह मुझे कोस रहा था
मैं सर झुकाए खड़ा था
वह मुझे गिना रहा था अपने एहसान
मैं अपनी उँगलियों पर गिन रहा था

वह भूल गया था कि
उसकी सत्ता में अंश है
मेरे पसीने का भी . 

बुधवार, 13 जून 2018

निसीम एज़िकेल की कविता "दर्शन" का अनुवाद

निसीम एज़िकेल अंग्रेजी के महत्वपूर्ण कवि हैं . उनकी कवितायेँ दुनिया भर में पढ़ी जाती हैं . उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार भी प्राप्त हुआ है . उनकी कविता "दर्शन" का अनुवाद करने का दुस्साहस मैंने किया है . दर्शन एक जगह है जहां मैं अक्सर जाता हूं, योजना बना कर नहीं बल्कि स्वतः खिंचा चला जाता हूँ सभी अस्तित्व से दूर, अंतिम प्रकाश तक जिसका इच्छा अनियंत्रित है यहां, ईश्वर का सृजन कभी धीमा नहीं पड़ता सृष्टि के अलौकिक आभा, अपनी उत्कृष्टता प्रदर्शित करने के लिए होता हुआ विघटित असंख्य तारों को मिटा कर अदम्य उत्साह के साथ एक पल में घटित होता है समय की उदास आंखों में । लेकिन अर्थ के अवशेष अभी गढ़े जा रहे हैं अंधेरे मिथक दर्द के माध्यम से घूमते हैं प्रकाश के अंतिम सूत्र के लिए। मैं भी, दृष्टि की इस स्पष्टता को अस्वीकार करता हूं- जो समझाया नहीं जा सकता है, समझाओ मत। इंद्रियों की सांसारिक भाषा गाती है इसकी अपनी व्याख्याएं आम जन की बातें बनें, उनकी प्रज्ञा के आधार पर, उनकी नग्नता के खिलाफ एक तर्क वह जो सच्चाई का अन्वेषण करता है गति को प्राप्त होता है उसी की उदासीनता से ! मूल कविता अंग्रेजी में A prominent Indian English Poet Nissim Ezikiel's poem : Philosophy There is a place to which I often go, Not by planning to, but by a flow Away from all existence, to a cold Lucidity, whose will is uncontrolled. Here, the mills of God are never slow. The landscape in its geological prime Dissolves to show its quintessential slime. A million stars are blotted out. I think Of each historic passion as a blink That happened to the sad eye of Time. But residues of meaning still remain, As darkest myths meander through the pain Towards a final formula of light. I, too, reject this clarity of sight. What cannot be explained, do not explain. The mundane language of the senses sings Its own interpretations. Common things Become, by virtue of their commonness, An argument against their nakedness That dies of cold to find the truth it brings. ********

सोमवार, 28 मई 2018

उदास आसमान

 उदास है आसमान
क्योंकि नदी के पानी में 
फ़ैल गया है  जहर 

यह जहर धर्म का हो सकता है 
हो सकता है यह राजनीति का 
और हो सकता है विश्वासघात का 
जिसे पीकर चिड़ियों के पंख 
हो रहे हैं कमजोर 

यह जहर पैदा करता है भ्रम 
निर्णय की क्षमता होती जाती है 
कमजोर शनैः शनैः 
चिड़ियों को आभास भी नहीं होता 

कमजोर पंखों से चिड़ियाँ 
कहाँ छू पाती हैं आसमान 
आसमान रहता है उदास 
चिड़ियों के बिना 
जैसे उदास रहता है 
मरे हुए बेटों के बूढ़े माँ बाप के घर का दालान 
उदास है आसमान ! 

बुधवार, 18 अप्रैल 2018

तुम प्रकृति हो

प्रकृति 
सबको देती है इतनी शक्ति
कि वह अपनी स्थिति का सामना कर सके
रेगिस्तान में देती है 
ताप सहने की शक्ति 
समंदर में देती है 
लहरों से जूझने की कला 
पहाड़ों में देती है 
पत्थर से लड़ने का माद्दा
जितना ताप सहते हैं हम 
जितना तैरते हैं हम 
जितना लड़ते हैं पत्थरों से 
उतनी ही पुख्ता होती है हमारी क्षमता !
कितनी ही विषमताओं से गुज़रते हुए 
आई हैं तुम में है कुछ अद्भुद शक्तियां 
उन्हें भूलो नहीं , जैसे नहीं भूलता है मानव चलना, बोलना
तुम प्रकृति हो !

-------------------------------------------------------------

जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं ज्योति !

गुरुवार, 12 अप्रैल 2018

नेपथ्य से

यह जो रंगमंच पर हो रहा है
लिखी गयी है इसकी स्क्रिप्ट कहीं और
किसी और उद्देश्य से

ये पात्र जो संवाद कर रहे हैं
सब झूठे हैं
सब बनावटी हैं
सब मुखौटे हैं

और जो हैं मंच के सबसे आगे
आरक्षित स्थानों पर
उन्हें ठीक ठीक ज्ञात है
वे निजी तौर पर जानते हैं
किसने लिखे हैं पात्रों के संवाद
किसने चुने हैं पात्रो को
और क्या अंत है इस मंच का

नेपथ्य तय करता है
मंच का वर्तमान और भविष्य !

सोमवार, 26 मार्च 2018

पतझड़

यह मौसम है
पतझड़ का

पत्ते पीले पड रहे हैं
और कमजोर भी
वे गिर रहे हैं एक एक कर
जैसे घटता है पल पल जीवन

बुजुर्गों की आँखों का सन्नाटा
और गहरा गया है
पतझड़ का पीलापन उनके चेहरे के पीलेपन को
बढ़ा रहा है और भी अधिक

एक दिन गिर जायेंगे सब स्तम्भ
जो गिरेंगे नहीं उनके अवशेष रहेंगे खंडहर के रूप में

लेकिन वृक्ष कहाँ डरता है पतझड़ से
जहाँ से गिरता है पत्ता
वही से पनपता है नया कोंपल

पतझड़ को अच्छा लगता है हारना !