मंगलवार, 1 नवंबर 2011

दिवाली के बाद : कुछ चित्र


१.

दीप सब बुझ चुके हैं
तेल सब हो गए हैं ख़त्म
बाती जल चुकी है आधी
कैसी यह उदासी (?) 

२.
सड़क के उस ओर के
कुछ बच्चे 
सुबह सुबह बीन रहे हैं
अधजले पटाखे, फुलझड़ियाँ
दिन भर सुखायेंगे उन्हें
शाम को होगी 
उनकी दिवाली (शायद) 

३.
घर से बाहर 
पडी हैं पिछले साल की 
लक्ष्मी गणेश की मूर्तियाँ 
विसर्जन की प्रतीक्षा में 
बाबूजी गौर से देख रहे हैं 
(ढूंढ रहे हैं कुछ साम्य )



32 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत गहराई है इन छोटी छोटी सी दिखने वाली पंक्तियों में.
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. २.
    सड़क के उस ओर के
    कुछ बच्चे
    सुबह सुबह बीन रहे हैं
    अधजले पटाखे, फुलझड़ियाँ
    दिन भर सुखायेंगे उन्हें
    शाम को होगी
    उनकी दिवाली (शायद)
    Aah!

    उत्तर देंहटाएं
  3. तीनों अवलोकन गहरे हैं, सूक्ष्म हैं और पूर्ण संप्रेषणीय हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सूक्ष्म अवलोकन से आप जो भी प्रस्तुत करते हैं
    वह मार्मिकता का अहसास करा देता है.
    हृदयस्पर्शी लेखन के लिए आभार,अरुण भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुक्ष्म ऑवज़र्वेशन और विशाल अर्थ समेटती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. घर से बाहर
    पडी हैं पिछले साल की
    लक्ष्मी गणेश की मूर्तियाँ
    विसर्जन की प्रतीक्षा में
    बाबूजी गौर से देख रहे हैं
    (ढूंढ रहे हैं कुछ साम्य )

    बाबू जी का मूर्ति को गौर से देखना जीवन के प्रति दृष्टिकोण और वास्तविकता से अवगत करवाता है ....आपकी सोच को सलाम ..और कीबोर्ड को प्रणाम ....जहाँ से ऐसी रचनाएँ हम तक पहुँचती हैं और हमें झकझोर देती हैं .....!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही गहन भाव समेटे ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप और आपकी क्षणिकाएं दोनों ही लाजवाब हैं :-)

    फुर्सत मिले तो हमारे ब्लॉग 'जज़्बात' की नयी पोस्ट ज़रूर देखें|

    उत्तर देंहटाएं
  9. सभी क्षणिकाएं गहरी बात लिए .... दिवाली के बाद की उदासी लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. गहनावलोकन....
    बहुत सुन्दर सर,
    सादर बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  11. और उतर जाते हैं नज़रों से, दीवारों से, छज्जों से ... दिवाली के दिन.
    बहुत बढ़िया शब्द!

    उत्तर देंहटाएं
  12. सभी क्षणिकाएं भावों की बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर मन की सुंदर प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीपावली के बाद का चित्रण
    प्रभावशाली रहा ...
    अभिवादन .

    उत्तर देंहटाएं





  15. प्रिय बंधुवर अरुण चन्द्र रॉय जी
    सस्नेहाभिवादन !

    दीपावली : कुछ चित्र ने जितना प्रभावित किया , उससे भी कुछ अधिक छाप छोड़ी है दिवाली के बाद : कुछ चित्र ने …
    आप निरंतर उत्तरोतर श्रेष्ठ रचनाएं दे रहे हैं …
    सचमुच लेखनी स्वयं धन्य हो जाती है किसी सुलझे समर्थ हाथ में पहुंच कर …

    तीनों क्षणिकाएं मार्मिक और मनन योग्य हैं … साधुवाद !

    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  16. घर से बाहर
    पडी हैं पिछले साल की
    लक्ष्मी गणेश की मूर्तियाँ
    विसर्जन की प्रतीक्षा में
    बाबूजी गौर से देख रहे हैं
    (ढूंढ रहे हैं कुछ साम्य )

    अद्भुत कल्पना, जो एक सच्चाई भी है।
    आपका काव्य-कैनवास बहुत विस्तृत है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. ओह, विडंबनाएं जो पसरी हैं हमारे चारों ओर पर हमारी नजर नहीं जाती...कविता वैसे मर्म छू जाती है..

    उत्तर देंहटाएं
  18. सड़क के उस ओर के
    कुछ बच्चे
    सुबह सुबह बीन रहे हैं
    अधजले पटाखे, फुलझड़ियाँ
    दिन भर सुखायेंगे उन्हें
    शाम को होगी
    उनकी दिवाली (शायद)

    उत्तर देंहटाएं