बुधवार, 26 अक्तूबर 2011

दीपावली : कुछ चित्र



१.
महानगर की
लालबत्ती पर
कटोरे में 
लक्ष्मी गणेश की मूर्ति लिए
एक करीब सात साल का लड़का 
ठोक रहा है बंद शीशा
मना रहा है दीपावली 

२.
दीपावली पर
हार्दिक शुभकामना के कार्ड 
छापते छापते
सोया नहीं है वह
पिछले कई रातों से
आँखें दीप सी चमक रही हैं
ओवर टाइम के रुपयों को देख 
आज सोयेगा मन भर 
पटाखों के शोर के बीच 
मनायेगा दीपावली 

मिठाई के डब्बे पर 
चढाते चढाते
चमकीली प्लास्टिक की पन्नी
आँखों के चमक भी 
हो गईं हैं प्लास्टिक सी 
अब नहीं देखता है वह
सामने खड़े ग्राहक की ओर
वह तो मनाता है दीपावली 
दशहरा, तीज, करवाचौथ को भी 

४.
गोबर से लीपे हुए आँगन में
माँ करती है इन्तजार
दीप जलते जलते 
बुझ जाता है
आधी रात के बाद
वर्षों से कई माएं मानती हैं
ऐसे ही दीपावली 

५. 
जलाते हुए तुलसी पर एक दीप
उन्हें मेरी याद जो आ गई
दिए की लौ से 
जल सी गई उंगलिया 
दीप और आँखों का तेज़
बढ़ सा गया 
रंगोली आ के टिक गयी 
गालों पर 
दीपावली विशेष हो गया 


ज्योतिपर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामना ! 

39 टिप्‍पणियां:

  1. आई है दिवाली देखो संग लायी है खुशियाँ देखो.
    यहाँ, वहां, जहाँ देखो
    आज दीप जगमगाते देखो!
    शुभ दीपावली!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सबके लिये विशेष दीवाली, सब खर्च करना चाहते हैं कुछ न कुछ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत भावभीने चित्र दिखाए ...

    दीपावली की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 27-10 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर...
    दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  7. दीपावली सबके लिए अलग अलग चित्र और मायने लिए हुए...
    सटीक चित्र खींचें हैं शब्दों के माध्यम से!
    शुभ दीपावली!

    उत्तर देंहटाएं
  8. जलाते हुए तुलसी पर एक दीप
    उन्हें मेरी याद जो आ गई
    दिए की लौ से
    जल सी गई उंगलिया
    दीप और आँखों का तेज़
    बढ़ सा गया
    रंगोली आ के टिक गयी
    गालों पर
    दीपावली विशेष हो गया ...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर!
    आपको और आपके पूरे परिवार को
    दीपावली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर अभिव्‍यक्ति ..
    .. आपको दीपपर्व की असीम शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस विशेष दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
    हमारी तो विशेष दिवाली कल ही मनी थी, इडेन गार्डेन में।

    उत्तर देंहटाएं
  12. अरुण जी......उफ्फ्फ.....आपका अंदाज़-ए-बयां.........एक बार फिर हैट्स ऑफ |

    उत्तर देंहटाएं
  13. अरुण भाई इस बार भी आप ने अपनी कविताओं के ज़रिये कमाल किया है
    दिवाली, भाई दूज और नव वर्ष की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  14. अरुण जी ... कविताओं के जरिये अलग अलग कोलाज बिखेर दिए हैं आपने ... बहुत खूब ...
    आपको और परिवार में सभी को दीपावली की मंगल कामनाएं ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. नसीब अपना अपना ..भावपूर्ण प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  16. किन लफ़्ज़ो मे तारीफ़ करूँ ……………हमेशा कीतरह लाजवाब्।दिवाली की आपको हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  17. दीपावली के विविध रूप ..

    एक करीब सात साल का लड़का
    ठोक रहा है बंद शीशा
    मना रहा है दीपावली

    उफ़ !

    उत्तर देंहटाएं
  18. भावपूर्ण प्रस्तुति अरुण जी
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    पर आपका स्वागत है
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  19. खरी-खरी दीवाली, तपिश भी जगमग भी.

    उत्तर देंहटाएं
  20. आज सोयेगा मन भर
    पटाखों के शोर के बीच
    मनायेगा दीपावली

    कितनी विसंगतियां हैं हमारे समाज में....
    इन क्षणिकाओं में बखूबी बयाँ हो गयी हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  21. **************************************
    *****************************
    * आप सबको दीवाली की रामराम !*
    *~* भाईदूज की बधाई और मंगलकामनाएं !*~*

    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************
    **************************************

    उत्तर देंहटाएं
  22. *******************************************************************
    # आप में से कोई मेरी मदद कर सकें तो बहुत आभारी रहूंगा
    मेरे दोनों ब्लॉग कल दोपहर बाद से गायब हैं

    शस्वरं


    ओळ्यूं मरुधर देश री


    लिंक :-
    shabdswarrang.blogspot.com
    rajasthaniraj.blogspot.com


    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************

    उत्तर देंहटाएं
  23. लालबत्ती पर
    कटोरे में लक्ष्मी ...
    माँ का इन्तजार
    तुलसी में दीया ....

    उफ्फ.....कितनी कडवी सच्चाई उठा लाते हैं आप ......

    उत्तर देंहटाएं
  24. प्रस्तुति अच्छी लगी । दीपावली तो बीत गया पर राय जी, हम लोग साहित्य से जुड़े हैं, इसलिए कह सके हैं कि जो बीत गया वह वापस भी आ जाता है । दीपावली की शुभकामनाओं के साथ-विलंब से ही सही । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. Naya nazriya.. naye tereh ki kavitaayein.. fourth poem bahut pasand aayi.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  26. गीत याद आ गया कहीँ दीप जले कहीं दिल ।समाझ की विसंगतिओं की भावमय प्रस्तुति। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  27. जलाते हुए तुलसी पर एक दीप
    उन्हें मेरी याद जो आ गई
    दिए की लौ से
    जल सी गई उंगलिया
    दीप और आँखों का तेज
    बढ़ सा गया
    रंगोली आ के टिक गयी
    गालों पर
    दीपावली विशेष हो गया

    अनछुए संदर्भों पर लिखी जाने के बावजूद आपकी कविताएं दिल के बहुत करीब होती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  28. भावमय करते शब्‍दों का संगम है ...यह अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. waah...
    wakai kitni aankhon ki diwali likh di aapne... sach hamne bhi dekhi aisi aankhen...
    deep ki jagmag se roshan hoti aankhen...
    na jane kitna kuch chhupa liya hai apne bheetar
    na jane kaha samet li hai khushiyon ki chadar...
    kai baar dekhi ahi,
    ek khushi ko tarasti aankhe...

    bas aapki rachna padhkar soojhi so likh di... ummeed hai aapko pasadn aayegi...

    उत्तर देंहटाएं
  30. जलाते हुए तुलसी पर एक दीप
    उन्हें मेरी याद जो आ गई
    दिए की लौ से
    जल सी गई उंगलिया
    दीप और आँखों का तेज़
    बढ़ सा गया
    रंगोली आ के टिक गयी
    गालों पर
    दीपावली विशेष हो गया

    ....लाज़वाब....हरेक चित्र बहुत मर्मस्पर्शी और भाव मन को गहराई तक झकझोर देते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  31. बढ़िया शब्द चित्र...
    हार्दिक शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  32. कल 02/11/2011 को आपकी कोई एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है।

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  33. द्रवित करती बातें, विचार और आपकी क्षणिकाएं. आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं