रविवार, 20 मार्च 2022

गौरैया

विश्व गौरैया दिवस की 
आपको हार्दिक शुभकामनाएं
शुभकामनाएं इसलिए भी कि
गौरैया विलुप्त हो रही है
और इसे बचाने के लिए 
आप लिख रहे हैं नारे
बना रहे हैं विज्ञापन 
जैसे कि आप करते हैं छद्म, प्रपंच 
जल बचाने के लिए
वृक्ष बचाने के लिए
बेटी बचाने के लिए
नदी बचाने के लिए 
मिट्टी बचाने के लिए
हवा बचाने के लिए 
ओजोन परत बचाने के लिए
डॉल्फिन और घड़ियाल बचाने के लिए
बाघ, सिंह, गैंडा बचाने के लिए । 

दरअसल आप जो मनुष्य हैं 
पृथ्वी के श्राप हैं 
बचाना है पृथ्वी को इस मनुष्य से । 


10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर सोमवार 21 मार्च 2022 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं
  2. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (21 मार्च 2022 ) को 'गौरैया का गाँव में, पड़ने लगा अकाल' (चर्चा अंक 4375 ) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। 12:01 AM के बाद आपकी प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
  3. जी अरुण जी , समस्त प्राणियों में मानव ने ही अपनी महत्वकांक्षाओं के चलते अपने हर अधिकार का अतिक्रमण किया है और कर्तव्य से दूरी बनायी है | सभी सजीवों में मानव धरती का श्राप ही साबित हुआ है | अनमोल रचना |

    जवाब देंहटाएं
  4. आदमी के मुँह पर तमाचा ।
    हमेशा उसने ख़ुद ही मारा ।

    जवाब देंहटाएं
  5. पृथ्वी और प्रकृति को बचाने का सार्थक सच्चा संदेश देती बहुत अच्छी रचना
    बधाई

    जवाब देंहटाएं