मंगलवार, 6 अक्तूबर 2009

अभी इस देश में

अभी
इस देश में
देह नही बिकते
लोग भूखे नही सोते
किसान आत्महत्या नही करते
गाँव को सडको की जरुरत नही

अभी
इस देश में
लोग विस्थापित नही हो रहे
लोग शरणार्थी नही
रोटियां कम नही हो रही
लोगों को रोजगार की जरुरत नही

अभी
इस देश में
निर्माण-परब मनाया जा रहा है।

मीडिया की आँखें
इन दिनों इस ओर नही आती
इस ओर है गुफ्फ़ अँधेरा
और जिस ओर है मीडिया की नज़र
उधर की चौंधियाती रौशनी में
कुछ नज़र नहीं आता

अभी
इस देश में
निर्माण-परब मनाया जा रहा है ।

9 टिप्‍पणियां:

  1. जिस ओर है मीडिया की नज़र
    उधर की चौंधियाती रौशनी में
    कुछ नज़र नहीं आता ......
    sach kaha...sab upri aawaran hai........

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरुण जी,
    रश्मि जी के द्वारा आपके इस रचना को पढ़ने का सुअवसर मिला| देश के सामाजिक-आर्थिक हालात और मीडिया के रुग्न अवस्था पर कटाक्ष है आपकी रचना में| उत्तम और सारगर्भित रचना केलिए बधाई और शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं
  3. arun ji,

    desh ke halat par likhi aapki rachna bahut sarthak hai...aaj kal media jis par meharbaan ho jaye wahi dikhayi deta hai...desh ki samasyayen peechhe rah jati hain....sundar rachna ke liye badhai

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरुण जी,
    रश्मि के माध्यम से आपके "सरोकार" तक पहुँची हूँ. आपकी सभी कविताओं को पढ़ा.जीवन के अलग - अलग सन्दर्भों को छूती हुई आपकी
    रचनाएँ कुछ सोंचने को बाध्य करती हैं, विशेष कर " टूटे हुए खिलोने".
    __किरण सिन्धु.

    उत्तर देंहटाएं
  5. मीडिया की आँखें
    इन दिनों इस ओर नही आती
    इस ओर है गुफ्फ़ अँधेरा
    और जिस ओर है मीडिया की नज़र
    उधर की चौंधियाती रौशनी में
    कुछ नज़र नहीं आता
    sahi kaha aapne sundar rachana

    उत्तर देंहटाएं
  6. i read your feeling in aal poems .realy it's all touch the heart. thank you and rashmi ji
    in free time come in my blog
    www.bebkoof.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. मीडिया की आँखें
    इन दिनों इस ओर नही आती
    इस ओर है गुफ्फ़ अँधेरा
    और जिस ओर है मीडिया की नज़र
    उधर की चौंधियाती रौशनी में
    कुछ नज़र नहीं आता

    its a satire on current media protocol and there approach towards gathering and presenting news...

    उत्तर देंहटाएं