रविवार, 8 मई 2011

सीधे पल्ले की साड़ी में


जब भी 
पहने देखता हूँ तुम्हे 
सीधे पल्ले की 
साड़ी 
लगता है 
मानो कोई आम का पेड़
लकदक  है 
पीले और रसीले
आमों  से और   
गढ़ रहा  हैं 
नया सूत्र 

कोई नदी
गुज़र रही हो
इतिहास के 
किसी हिस्से से
सभ्यता और 
संस्कृति के 
किसी विशेष प्रतिमान को 
संजोती हुई सी
प्रवाहमान दिखती हो
सीधे पल्ले की साड़ी में 


लचकती लता
जैसे बरगद की 
दिखने में कोमल 
किन्तु भीतर दृढ 
झूल जाए 
एक युग 
नए बयार के संग,
एक प्राकृतिक उमंग 
सी लगती हो 
सीधे पल्ले की साडी में 

एक गृहस्थिन सी 
रसोई हो 
परिधि जिसकी 
घर की चौखट हो 
उसकी  अनंत  सीमा 
समेटे हुए 
स्वयं में अलग अलग 
व्यक्तित्व कितने ही 
लगती हो 
तुम सम्पूर्ण 
सीधे पल्ले की साड़ी में 

प्रार्थना में 
जैसे बांधे होते हैं 
हाथ 
तैरता है 
निश्छल उजास 
उभरता है 
पावन उच्छ्वास 
बजता है 
मंदिर में शंखनाद 
ध्वनित होता है 
मंत्रोच्चार 
जब पहनती हो तुम 
सीधे पल्ले की साड़ी

कुछ निश्चिन्त सी 
चिंतित सी कुछ 
बेपरवाह जैसी कभी तो 
कभी करती सी परवाह 
कुछ माँ सी लगती हो  
जब होती हो तुम 
सीधे पल्ले की साड़ी में. 

46 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी में.

    क्या कहूं .....कमाल का बिम्ब कमाल की रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. Arun ji bahut sundar bhavon ko shabdon me utar diya hai .ek bhartiy nari kee kalpna isi roop me ki jati hai .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर चित्रण ... सीधा पल्ले की साड़ी में कितने दृश्य दिख गए ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ शब्द नहीं है कहने को,
    यह भाव यहीं अब रहने दो।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कोई नदी
    गुज़र रही हो
    इतिहास के
    किसी हिस्से से
    सभ्यता और
    संस्कृति के
    किसी विशेष प्रतिमान को
    संजोती हुई सी
    प्रवाहमान दिखती हो
    सीधे पल्ले की साड़ी में
    nihshabd ker diya is rachna ke satwik prawah ne

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुछ माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी में.
    ...bas aur kuch bhi kahne ko baaki nahi raha ji

    उत्तर देंहटाएं
  7. अंतस के सुन्दर भावों का सहज प्रवाह चित्र काव्य का सृजन करता है | कविता पढ़ते ही कल्पना साकार रूप ग्रहण कर सामने खड़ी हो जाती है ..... यही तो है कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  8. maa ki seedhe palle ki sari...is bahane kai bisari baten yad kara dii aapne...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (9-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर रचना. बधाई.

    मेरे ब्लॉग पर भी आएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  11. कहते हैं जहाँ ना पहुँचे रवि वहाँ पहुँचे कवि मगर अब कहावत ये कहनी पडेगी
    जहाँ ना पहुँचे रवि वहाँ पहुँचे अरुण जी

    बेहद गहन दृष्टि। शानदार अवलोकन्।

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह कवि कुछ भी सोच सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  13. कुछ माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी में.

    :) :) Kya kahun ..sundar bimb aur atisundar rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर रचना!
    --
    मातृदिवस की शुभकामनाएँ!
    --
    बहुत चाव से दूध पिलाती,
    बिन मेरे वो रह नहीं पाती,
    सीधी सच्ची मेरी माता,
    सबसे अच्छी मेरी माता,
    ममता से वो मुझे बुलाती,
    करती सबसे न्यारी बातें।
    खुश होकर करती है अम्मा,
    मुझसे कितनी सारी बातें।।
    "नन्हें सुमन"

    उत्तर देंहटाएं
  15. माँ तो उलटे पल्ले में भी माँ ही रहेगी. बेहतरीन अभिव्यक्ति.

    मातृदिवस की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस कविता की प्रेरणाश्रोत का तो पता चल गया..अरुण जी, बार बार कहना अच्छा नही लगता आप कितना लाज़वाब लिखते है.

    आजकल तो महानगर में साड़ी ही कम दिखती है बाकी सीधे पल्ले की तो कहानी ही और है..बहुत सुंदर उपमा देते हुए आपने कविता रची है..वाकई बेमिशाल....

    और बताइए आप कैसे है?

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुछ माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी में. ..
    ...
    अरुण भाई हर बार की तरह जड़ कर दिया....प्रवाह और साँस रुक जाती है...आपको पढ़ते हुए...सच में इश्वर की असीम कृपा है आपकी कलम पर...लिखते रहो भाई बड़ा भाग्यशाली हूँ जो आपके दौर में हूँ और आपके साथ भी.

    उत्तर देंहटाएं
  18. अरुण जी!
    बस यूं समझ लीजिए कि खडा हूँ मैं और दोनों हाथ तालियाँ बजा रहे हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. श्रद्धा सुमन से शब्द हैं यह..सीधे पल्ले की साड़ी..मातृदिवस की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सीधे पल्ले की साड़ी में इतना आंचल रहता है कि मां हमें पूरा का पूरा उसमें ढ़ंक कर रखती थी, हर तरह के दुख कलेश से और हम गाया करते थे ... मेरी दुनिया है मां तेरे आंचल में।

    उत्तर देंहटाएं
  21. भाई अरुण चन्द्र राय जी इस बार भी आपकी कविता अद्भुत है ,वाकई कविता मुक्त छंद की हो या छंद की लिखने वाले के कौशल पर निर्भर करती है कि वह कितना अच्छा लिखता है |बधाई और बहुत बहुत शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  22. bhavnaon men bandhi aapki ichha ,mukhar ho chali hai . sunder rachana . shukriya ji .

    उत्तर देंहटाएं
  23. कुछ माँ सी लगती हो .... क्या शब्दों में बाँधा है ... माँ का बिंब खैंच दिया आपने ... लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत-बहुत खुबसूरत......हैट्स ऑफ इस पोस्ट के लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  26. बजता है
    मंदिर में शंखनाद
    ध्वनित होता है
    मंत्रोच्चार
    जब पहनती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी....

    वाह अरुण जी !क्या बात है !!!....मन मोह लिया इस रचना ने।
    बधाई।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  27. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 10 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  28. सीधे पल्ले में तुम माँ सी ही दिखती हो ...
    सात्विकता में रची बसी कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  29. बेपरवाह जैसी कभी तो
    कभी करती सी परवाह
    कुछ माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी में.
    seedhe palle ki saadi ki itani sunder byakhyaa.bahut achcha likha hai.dil ko choo gai aapki rachanaa.badhaai aapko.
    mera maargdarsen karane ke liye plese mere blog per bhi apni najaren inayaay kijiye.thanks

    उत्तर देंहटाएं
  30. कुछ माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी में. ..
    अनुपम प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम सीधे पल्ले की साड़ी में ....
    सर्वोच्च दर्जा दे दिया आपने सीधे पल्ले की साड़ी को ..वाह

    उत्तर देंहटाएं
  32. ओह....मंत्रमुग्ध करती मनमोहक रचना...

    क्या कहूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  33. कुछ निश्चिन्त सी
    चिंतित सी कुछ
    बेपरवाह जैसी कभी तो
    कभी करती सी परवाह
    कुछ माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी में.
    माँ की महिमा का कितना सुन्दर चिन्तन… दिल छूती पंक्तियाँ. बहुत प्यारी कविता है। धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत प्यारी कविता है
    ....मातृदिवस की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  35. कुछ निश्चिन्त सी
    चिंतित सी कुछ
    बेपरवाह जैसी कभी तो
    कभी करती सी परवाह
    कुछ माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी में.
    सीधे पल्ले के माध्यम से भारतीय नारी की सरलता और आन्तरिक सौन्दर्य का बोखोता है बहुत सुन्दर रचना। अरुण जी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  36. भाव विह्वल करने की क्षमता रखती है यह रचना ! शुभकामनायें आपको !!

    उत्तर देंहटाएं
  37. कुछ माँ सी लगती हो
    जब होती हो तुम
    सीधे पल्ले की साड़ी में.aapne hame bhi maa ki yaad dila di.....seedhe palle ki sari men.

    उत्तर देंहटाएं
  38. भोज्येषु माता, शयनेषु रम्भा ।
    धर्मानुकूला, क्षमया धरित्री ।।

    पत्नी में माँ का दर्शन..............यार आप तो 'सुभाषितानि-सूत्रों' के काफ़ी करीब लग रहे हो इस कविता में| सीधे पल्ले की साड़ी को ले कर इतनी गहरी सोच| बहुत खूब|

    उत्तर देंहटाएं