शनिवार, 5 मई 2012

हथेलियां



१.
रेखाएं जो नहीं होतीं
तो भी
लोग प्यार करते
अपनी हथेलियों को

२.
हथेलियों को
साथ लाने से बनती है अंजुरी
चाहो तो रखा जा सकता है
समंदर का पूरा जल
वितान का विस्तार
उतना ही प्यार

३.
कुछ हथेलियों में होते हैं
कोयला, पत्थर, ईंट, सीमेंट,
मशीन के हत्थे के निशान
लोग संभाल कर
संजोते हैं उन्हें
किसी डिग्री या
प्रमाण पत्र की तरह

25 टिप्‍पणियां:

  1. रेखाएं जो नहीं होतीं
    तो भी
    लोग प्यार करते
    अपनी हथेलियों को

    बहुत सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति // बेहतरीन रचना //


    MY RECENT POST .....फुहार....: प्रिया तुम चली आना.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. हथेलियों को
    साथ लाने से बनती है अंजुरी
    चाहो तो रखा जा सकता है
    समंदर का पूरा जल
    वितान का विस्तार
    उतना ही प्यार

    जी, बिलकुल सही कहा ..... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  3. हथेलियों को
    साथ लाने से बनती है अंजुरी

    सुंदर अभिव्यक्ति ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ हथेलियों में सारे जहाँ की ख़ुशी होती है, और कुछ सब कुछ होकर भी खाली होती हैं... गहन अभिव्यक्ति... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाह....................


    रेखाएं जो नहीं होतीं
    तो भी
    लोग प्यार करते
    अपनी हथेलियों को

    लाजवाब.....................

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  6. साधु-साधु
    सुन्दर अभिव्यक्ति,भावपूर्ण...

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुछ हथेलियों में होते हैं
    कोयला, पत्थर, ईंट, सीमेंट,
    मशीन के हत्थे के निशान
    लोग संभाल कर
    संजोते हैं उन्हें
    किसी डिग्री या
    प्रमाण पत्र की तरह.....sashakt

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत गहरी सफल अभिव्यक्ति ...
    बधाई अरुण !

    उत्तर देंहटाएं
  9. हथेलियों की रेखाएँ
    पढ़नी नहीं आतीं जिनको
    वो भी पढ़ लेते हैं
    प्यार की रेखा ...

    सभी क्षणिकाएं गहन अर्थ लिए हुये

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ हथेलियों में होते हैं
    कोयला, पत्थर, ईंट, सीमेंट,


    यहीं हथेलियाँ अपने को गला - देश बना रही हैं.

    सुंदर रचना, साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  11. जब जीवित प्रमाणपत्र हों हथेलियों में तो किसी कागजी पात्र की क्या जरूरत .... बहुत ही संवेदनशील होता है आपका लिखा ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. हथेलिओं पर उत्कृष्ट रचना...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  13. गहन और सत्य को उदघाटित करती सशक्त रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. यह हथेलियाँ ....अभिव्यक्त हुई हैं आपके इन शब्दों में गहनता से ..!

    उत्तर देंहटाएं
  15. हथेलियों में आशाओं का विश्व समाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत खूब ...
    रेखाओं के बिना हथेलिया कब होती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  17. हथेलियों पर होते हैं कलमों के निशान
    और होता है भाग्य की रेखा
    उससे भी गहरी होती है कर्म की रेखा
    कुछ बनते हैं महान
    कुछ बनते-बनते रह जाते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  18. रेखाएं जो नहीं होतीं
    तो भी
    लोग प्यार करते
    अपनी हथेलियों को

    ....गहन भावों की बहुत प्रभावी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  19. हथेलियों को
    साथ लाने से बनती है अंजुरी
    चाहो तो रखा जा सकता है
    समंदर का पूरा जल
    वितान का विस्तार
    उतना ही प्यार .....

    बहुत सार्थक हथेलियों की परिभाषा .
    .बधाई अरुण जी...

    उत्तर देंहटाएं