शनिवार, 24 अप्रैल 2021

यह शोक का समय है

यह श्रद्धांजलि लिखने का
समय नहीं
यह है शोक का समय। 

नागरिक तो पहले मरे हैं
उनसे पहले मरी है
नैतिकता और मानवता
अस्पतालों में
दवाई की दुकानों पर 
गोदामों और 
धनकुबेरों के तहखानों में। 

कौन कहता है कि 
सांसे नहीं मिलने से मरे हैं लोग
वास्तव में मरी है
संवेदना सत्ता की, अधिकारियों की
या कहिए सम्पूर्ण प्रणाली की
नीतियों की और नियंताओं की। 

यह व्यक्तिगत नहीं 
सामूहिक शोक का समय है
अशेष संवेदनाओं के आत्महत्या का समय है यह। 

16 टिप्‍पणियां:

  1. सच में , ऐसे समय भी लोग स्वार्थ नहीं भूलते । आज साँसों की भी कालाबाज़ारी कर रहे हैं ।मन क्षुब्ध है । झकझोरने वाली रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बहुत शुक्रिया संगीता जी। बहुत भयावह दौर से गुजर रहा है देश।

    जवाब देंहटाएं
  3. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार ( 26-04 -2021 ) को 'यकीनन तड़प उठते हैं हम '(चर्चा अंक-4048) पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी लिखी कोई रचना सोमवार 26 अप्रैल 2021 को साझा की गई है ,
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  5. कटु यथार्थ उजागर करती अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  6. कडवा मगर सत्य । ऐसे समय में भी लोग कैसे इतने स्वार्थी हो सकते है ?

    जवाब देंहटाएं
  7. आदरणीय सर, आपकी यह रचना बहुत ही करुण है और एक कटु सत्य को उजागर करती है । स्वार्थी और भ्रष्टाचारी नेता इस संकट काल में भी अपना पेट भर रहे हैं और आम -आदमी आज भी वही पीड़ा भोग रहा है । हार्दिक आभार इस समसामयिक रचना के लिए ।

    जवाब देंहटाएं
  8. मार्मिक सत्य को उकेरती संवेदना शील रचना! निशब्द हूँ अरुण जी🙏

    जवाब देंहटाएं
  9. जब व्यवस्था ही कोरोना ग्रसित हो तो नागरिकों की मौत का ताण्डव ही देखने को मिलेगा! आपकी अभिव्ययक्ति उचित और सामयिक है, जो एक लाचारी का बोध कराती है!

    जवाब देंहटाएं