रविवार, 22 नवंबर 2015

वह जो दौड़ता है


वह दौड़ता है 
तेज आती गाड़ियों के पीछे 
वह रिरियता है 
बेचने को मूर्तियां, किताबें , मोबाइल चार्जर और 
सर्दियों में दस्ताने 

वह देश की गिनती में नहीं है 
जो गिनता है राजधानी की लालबत्तियों पर 
गाड़ियों का रेला 
उसके लिए नहीं लगाईं जाती है 
कोई जनहित याचिका 
नहीं लेता कोई न्यायाधीश संज्ञान 

वह जो दौड़ता है 
छूट जाता है पीछे !

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 23 नवम्बबर 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उसकी सुध कोई नहीं लेता - दुर्भाग्यपूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  3. संवेदना से परे होते है ऐसे लोग.. . दुखद है!

    उत्तर देंहटाएं
  4. शायद नजरों को वो दिखाई भी नहीं देता है ।

    उत्तर देंहटाएं