गुरुवार, 9 मार्च 2017

होली

1
रंग सब बदरंग हुए
काला पड़ा आसमान
होली कैसे मनाएं हम
जीवन है बिखरा सामान

2
पत्ते सब पीले पड़े
जड़ें पड़ी हैं सूखी
होली कैसे मनाएं हम
जनता सोये भूखी

3

कच्ची उसकी झोपडी
कच्ची उसकी भीत
कैसे चढ़े होली का रंग
लाल हो या पीत

1 टिप्पणी:

जलीय कीट

ए. के. रामानुजम की कविता "दी स्ट्राईडर्स" का अनुवाद - जलीय कीट बाकी सब कुछ छोडिये  कुछ पतले पेट वाले  बुलबुले सी पारदर्शी आँख...