बुधवार, 10 अगस्त 2011

नहीं आता है माँ को मोबाइल चलाना

माँ को जब
नहीं आता है
मोबाईल पर सन्देश भेजना
बड़ी खीज आती होगी आपको
आप तब अपना सिर
पीट लेते होंगे
जब उसे मोबाइल खोल कर
सन्देश पढना भी नहीं आता होगा

आपने जब दिया होगा
नया मोबाइल फ़ोन

एक और जरुरत समझकर
सिखाया होगा जतन से
फ़ोन करना
सन्देश पढना/भेजना
फोटो खीचना
रेडियो बजाना
और आप निराश हो गए होंगे
जब उसने बिना किसी रूचि के
रख दिया होगा
एक ओर

आप लौट आये होंगे
गाँव से उल्टे पाँव
उसी हताशा में, निराशा में
समझा दिया होगा
आस पड़ोस को
माँ के बारे में सबकुछ
उसकी बीमारी, उसका डाक्टर
दे दिया होगा
अपना नंबर भी
प्रतीक्षित आकस्मिक स्थिति के लिए

लौटते हुए आपने कई बार
'सॉरी' का सन्देश भी भेजा होगा
लेकिन नहीं आया  होगा जवाब
बहुत रोये होंगे आप
उसकी  कांपती हाथो से लिखी
चिट्ठी को याद करके 

लगता होगा की बदल गई है 
माँ भी

आश्चर्य होता होगा कि
जो लिख सकता है इस उम्र में
करीब सात फांट साइज़ के महीन अक्षरों में चिट्ठी
उसे कैसे नहीं आ सकता है
मोबाइल चलाना

आप सोच रहे होंगे
इनबाक्स में पड़े होंगे 

आपके सन्देश
बिना माँ के बच्चों  जैसे
और माँ के बारे में
सोचते सोचते आप भूल गए होंगे
चलना उसी ने सिखाया था
पकड़ कर नन्ही उंगलियाँ
पहली बार साइकिल के पीछे 

वही  थी भागी 
दो और दो चार होते हैं
उँगलियों को दिखा कर
उसी ने सिखाया था 

जो अब भी याद है आपको

शायद
जबसे आपने सीख लिया कि
दो और दो केवल चार नहीं होते
माँ भूल गई
सब जोड़, घटा, गुणा, भाग
और कर दी घोषणा
नहीं आता है
माँ को
मोबाइल चलाना

34 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत संवेदनशील रचना ... लेकिन माँ है न ..तो कैसे भी हो सीख जायेगी अपने आप .. भले ही थोड़ा वक्त लगे ... बच्चों की चिन्ता सब सिखा देती है माँ को ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. यहा तो अन्तर है पीढी के अन्तराल में!
    सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍दों के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये बताइए अरुण जी कि यह पुत्र कितना व्यस्त और कितना टेकी है जो माँ को फोन करने के बजाये मेसज करता है.

    सौरभ .

    उत्तर देंहटाएं
  6. कई बार बहुत भावुक कर देती हैं आपकी पोस्ट........बहुत ही खूबसूरत|

    उत्तर देंहटाएं
  7. arun jee,

    han har maan ko nahin aata meri maan ko bhi nahin aata bas quick dial men sab number feed kar diye hain aur kah diya hai ki hara batan daba kar thodi der ghanti sunana aur phir lal daba kar kat dena jisako chahogi vahi baat kar lega. yahi chara hai, aankh kee kamajor hoti roshni aur das das ank yaad rakhana sambhav nahin hota. apaki kavita shayad har maan kee kahani kahati hai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बच्चे समझ नहीं पाते...कि कैसे माँ ये सब जल्दी से नहीं सीख पाती...
    बहुत ही मर्मस्पर्शी और यथार्थपरक कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही ह्र्दयस्पर्शी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. माँ का मोबाइल , सुँदर भाव प्रवण कविता का उदगम बना . आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut samvedansheel rachna....jante hain vo guru maa hain jo jaankar nahi seekhna chaahti mobile chalana kyuki vo janti hai vo uske aur uske bete ke beech duriyan kheechne wali rekha hai....to kaise seekh jaye vo mobile chalana?

    उत्तर देंहटाएं
  12. अब मोबाईल प्रतिक बन गया माँ की मज़बूरी का .....बहुत संवेदनशील रचना ....जीवन के अनुभूत सत्य को उद्घाटित करती हुई .....!

    उत्तर देंहटाएं
  13. उसे तो कोई फोन मिलाकर बेटे की आवाज सुना दे।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बड़ी मुश्किल से अपनी निरक्षर मां को रिसिव करना सिखा पाया हूं। आब पापा भी नहीं रहे। तो सिखाना तो था ही, क्योंकि वो गांव में अकेली रहती है। बस महानगरों में रहना नहीं सिखा पाया। अब क्या सिखेगी ... वो कहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. माँ सिखने में समय लेती है या कितना जानती है , सब समझते हैं आप ...
    सुन्दर प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  16. संवेदनशील रचना...संगीताजी ने ठीक ही कहा
    लेकिन माँ है न ..तो कैसे भी हो सीख जायेगी अपने आप .. भले ही थोड़ा वक्त लगे ... बच्चों की चिन्ता सब सिखा देती है माँ को ..

    उत्तर देंहटाएं
  17. bahut hi sambedansheel rachanaa,dil ko choo gai.sach kaha aapne jo maa tab aapki bhasha samajh leti thi.jab aapko thik sr bolanaa bhi nahi aata tha,usi maa ko hum aaj bolate hain ki maa aapko kuch nahi aataa.mobail chalaanaa bhi nahi aataa.bahut hi bhavuk kar dene wali rachanaa.badhaai aapko.

    उत्तर देंहटाएं
  18. भावुक कर दिया इस रचना ने , इंसान पहले माँ का प्रेम तो समझ ले ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. अरुण जी!
    आज बस मौन.. बस ऐसा लगा कि शब्द-शब्द मेरी माँ का चेहरा बनकर मेरे सामने खड़े हो गए हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ही सुंदर कविता. माँ और माँ की ममता के वीच में मोबाइल नहीं आ सकता. सचमुच में भावुक कर दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  21. संवेदनशील रचना...अरुण जी
    एक अति उम्दा रचना.....धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह,फिर एक नए विषय पर सुन्दर - सी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत मर्मस्पर्शी रचना..आपका विषयों का चयन हमेशा अद्भुत है..

    उत्तर देंहटाएं
  24. "शायद
    जबसे आपने सीख लिया कि
    दो और दो केवल चार नहीं होते
    माँ भूल गई
    सब जोड़, घटा, गुणा, भाग
    और कर दी घोषणा
    नहीं आता है माँ को
    मोबाइल चलाना"
    उम्दा,मर्मस्पर्शी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  25. संवेदनाओं से भरी बहुत सुन्दर कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  26. गहरी संवेदनाएं समेटे ... कभी कभी अपने ऊपर शर्म आती है ...कितने स्वार्थी हो गए हैं हम ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (४) के मंच पर प्रस्तुत की गई है /आप आयें और हमें अपने विचारों से अवगत कराएँ /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें यही कामना है /आप ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर आप सोमवार १५/०८/११ को आप सादर आमंत्रित हैं /आभार/

    उत्तर देंहटाएं
  28. अर्पित बंसलरविवार, नवंबर 04, 2012

    अति उत्तम , आपकी ये रचना आपके नाम सहित अपने फसबूक पर शेयर की है अरुणजी ! मेरी माँ एक बार देल्ही मैं एक माल के एस्क्केलेटर पर गिर गई थी मेरे अंदर उस समय जो चल रहा था ये कविता वो बयां करती है !

    उत्तर देंहटाएं