मंगलवार, 30 अगस्त 2011

भादो मास



गीले भीत के 
ढहने के डर से
नींद नहीं आती है
भादो मास 
हे देश ! 
क्यों नहीं है तुम्हें पता ?

भादो मास के अन्हरिया में 
टूटी हुई चट्टी* पहनकर 
गया था वह दिशा मैदान 
काट लिया साँप ने
कोसों दूर 
न  डाक्टर न अस्पताल
मर गया झाड फूंक के दौरान 
हे देश !
क्यों नहीं बनी यह खबर ?

भादो मास 
जो चढ़ी थी नदी
बँटना शुरू हो गया था
अनाज, पन्नी 
सुना था रेडियो पर
पंहुचा नहीं मेरे गाँव 
हे देश !
क्यों नहीं बना यह मुद्दा ?

६५वा भादो है यह 
देश का 
आज़ादी के बाद 
इस बीच 
क्यों नहीं आया
कोई अगहन
मेरे लिए
हे देश !
क्या है उत्तर सर्वोच्च संसद के पास ?

*चप्पल

27 टिप्‍पणियां:

  1. क्यों नहीं आया
    कोई अगहन
    मेरे लिए
    हे देश !
    क्या है उत्तर सर्वोच्च संसद के पास ?

    बहुत खूब कहा है आपने ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कैसे बनेगे ये मुद्दे ..इनके लिए कीचड में उतरना पड़ेगा ..बाढ़ के पानी में तबाह होते साल भर की मेहनत को देखना पड़ेगा ये मुद्दे हो भी नहीं सकते मुद्दे वो होते है जो काजू चबाते हुए discuss किये जाए

    उत्तर देंहटाएं
  3. ६५वा भादो है यह
    देश का
    आज़ादी के बाद
    इस बीच
    क्यों नहीं आया
    कोई अगहन
    मेरे लिए
    हे देश !
    क्या है उत्तर सर्वोच्च संसद के पास ?
    koi uttar nahi

    उत्तर देंहटाएं
  4. सान-सान सद-कर्म को, बसा के बद में प्राण |

    अपनी रोटी सेक के, करते महा-प्रयाण |



    करते महा-प्रयाण, साँस दो-दो वे ढोते |


    ढो - ढो लाखों गुनी, पालते नाती - पोते |


    मत 'रविकर' मुँह खोल, महा अभियोग चलावें |

    कड़ी सजा तू भोग, पाप उनके छिप जावें ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. ६५वा भादो है यह
    देश का
    आज़ादी के बाद
    इस बीच
    क्यों नहीं आया
    कोई अगहन
    मेरे लिए...

    बहुत सटीक प्रस्तुति...आज के कटु सत्य का बहुत प्रभावी चित्रण..

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह, 65 वाँ भादों, नैना भी सावन भादौं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरुण जी आप बहुत अन्दर ........बहुत गहरी चोट करते हो...........ताक़त है आपकी कलम में......सलाम है आपको इस पोस्ट के लिए|

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सटीक प्रश्न , पर क्यूँ नहीं ये उनके कानों तक पहुँचते।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सशक्‍त भावों का समावेश हर पंक्ति में ...बहुत ही अद्भुत सोच

    उत्तर देंहटाएं
  10. भादों मास को केंद्र में रख कर बहुत सुंदर तरीक़े से विविध बिन्दुओं पर आप ने अपनी लेखनी चलाई है| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  11. सचमुच सावन- भादों का एक सच यह भी है...
    कड़वी सच्चाई दर्शाती क्षणिकाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  12. जैसे ही आसमान पे देखा हिलाले-ईद.
    दुनिया ख़ुशी से झूम उठी है,मनाले ईद.
    ईद मुबारक

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर।
    --
    भाईचारे के मुकद्दस त्यौहार पर सभी देशवासियों को ईद की दिली मुबारकवाद।
    --
    कल गणेशचतुर्थी होगी, इसलिए गणेशचतुर्थी की भी शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  14. अरुण जी सही सवाल पूछे हैं आपने.. लेकिन मुश्किल यही है कि देश की किस्मत में सिर्फ भादों ही है और बीच बीच में हमारे ही जैसे देश वासियों के जेठ की मार भी सहनी पड़ती है.. अगहन तो सपने में आता है.. बहुत हुआ तो पूस की रात!!
    कमाल है अरुण जी!

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस कविता के ज़रिए आपने एक बार फिर ज्वलंत प्रश्नों को समेट संज्ञा शून्य हो चुके सत्ता के गलियारों में दस्तक देने की कोशिश की है, शायद आपकी गुहार अपनी उदासीनताओं के साथ सोते इस वर्ग की नींद में खलल डाले।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुंदर कविता भाई अरुण जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  17. सांस्कृतिक गिरावट का दौर है....क्या कीजिएगा...

    उत्तर देंहटाएं
  18. जो प्रश्न आपने उठाए हैं,उनका उत्तर अभी देश के पास नहीं है.
    अरुण जी आपकी करुण पुकार की सुनवाई कभी तो होगी ही.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  19. गहन चिंतन जो देश चलने वालों को अनुत्तरित करता है

    उत्तर देंहटाएं
  20. गहन मुद्दों की तरफ ध्यान आकर्षित किया है ..काश यह पुकार संसद तक भी पहुंचे ... अच्छी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  21. सवाल तो सही हैं पर उत्तर यहाँ है किसके पास

    उत्तर देंहटाएं
  22. चारों शशक्त ... भादों की व्यथा शायद उत्तर की सर्वोच्च संस्था तक नहीं पहुँच पायी है ६५ वर्षों तक ...

    उत्तर देंहटाएं