सोमवार, 10 अक्तूबर 2011

गए जो हो परदेस

(गाँव से दिल्ली आये ग्यारह साल हो गए. गाँव से जुड़ा रहा गहरे से. लेकिन कभी दशहरा  पर गाँव नहीं जा पाया था इस दौरान. इस बार गया था. पूरे दस दिनों के लिए. त्यौहार के मौके पर पति के परदेश से लौटने पर प्रतीक्षारत पत्नियों की  आँखों में चमक को देख उनकी उदासी का अंदाज़ा भी लगा. आज भी हजारों स्त्रियाँ अकेली होती हैं पति के परदेस  जाने के बाद. शायद हम समझ ना सकें उन्हें. वह दर्द नहीं टीस होती है जिसमे निकल  जाती है पूरी उम्र . उन्ही स्त्रियों को समर्पित ये क्षणिकाएं ) 

१. 

भीत
बारहों महीने
गीली रहती है
जब से तुम गए हो
परदेस 

२.

चूल्हा 
अब अकेला
नहीं जलता 
साथ देती हूं मैं
तुम्हारे जाने के बाद 

३.

ओसारे पर
धूप चली जाती है
करके इन्तजार
जैसे मैं 

४.

गाय हो गई है
गाभिन 
ताने मैं सुन रही हूं 
क्या करू  इर्ष्या 
अब इसी से 

५. 

तुम जो पहिरा के गए थे
हरी वाली चूड़ी 
अब भी वही चल रही है
कलाई में 
रहते थे तो 
कितनी टूटती थी ये 
मजबूत है 
हम दोनों  का जियरा .

६.
पिछली चिट्ठी में
जिक्र था सबका
बस मैं ही तो 
रह गई थी
फिर भी है
अगली चिट्ठी का 
इन्तजार 

41 टिप्‍पणियां:

  1. गाय हो गई है
    गाभिन
    ताने मैं सुन रही हूं
    क्या करू इर्ष्या
    अब इसी से


    भावपूर्ण प्रस्तुति ||
    बहुत सुन्दर |
    हमारी बधाई स्वीकारें ||
    http://dcgpthravikar.blogspot.com/2011/10/blog-post_10.html
    http://neemnimbouri.blogspot.com/2011/10/blog-post_110.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बढ़िया सर!

    कल 12/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कितना गहन विश्लेषण किया है……………विरह और उस दर्द का बहुत ही खूबसूरती से चित्रण किया है……………गागर मे सागर भरा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सारगर्भित प्रस्तुति...धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  5. असरदार क्षणिकाएं !शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  6. भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. विरह की इस व्यथा-कथा के भावों ने अभिभूत कर दिया

    उत्तर देंहटाएं
  8. चूल्हा
    अब अकेला
    नहीं जलता
    साथ देती हूं मैं
    तुम्हारे जाने के बाद

    यह एक छोटी-सी कविता पूरे उपन्यास का अहसास करा गई !
    लाजवाब, आप की सोच को सलाम !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर और सार्थक क्षनिकाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  10. चूल्हा
    अब अकेला
    नहीं जलता
    साथ देती हूं मैं
    तुम्हारे जाने के बाद

    क्या बात है...

    सारी की सारी क्षणिकाएं बहुत सुन्दर बन पड़ी हैं...गहरे अर्थ लिए

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर ....


    फिर भी है
    अगली चिट्ठी का
    इन्तजार

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ये क्षणिकाएं आप ने वाकई डूब कर लिखी हैं। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. चौथी और पांचवीं क्षणिका को छोड़कर शेष प्रभावी हैं। इन दोनों में भावों बहुत निम्‍नस्‍तर के हैं। इन दोनों के होने से बाकी का प्रभाव भी कम हो रहा है। सच तो यह है कि इनके मोह से आपको बचना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  16. ग्रामीण स्‍त्री के एकाकी जीवन की दुरूह परिस्थितियों का सच्‍चा लेखा-जोखा सामने रखता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. समझ की ,सरोकार की, उत्कृष्ट अभिव्यक्ति ...... शुक्रिया जी ,

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुभानाल्लाह.......सारी खूबसूरत हैं|

    उत्तर देंहटाएं
  19. shaandaar birah katha..lekin prastuti itni behtarin ki taarif ke shabd nahi..behtarin soch..har kadi sochne ke liye bibash karti hai..har kadi ka ant wah karne ko vivash karti hai..sadar badhayee

    उत्तर देंहटाएं
  20. चूल्हा
    अब अकेला
    नहीं जलता....

    सचमुच....
    विरह को शिद्दत से अभिव्यक्त करती हैं
    आपकी तपती क्षणिकाएं....
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  21. विरह के इतने रूप देखकर तो विरह से प्रीत होने लगी!! विरहिणी के रूप सौंदर्य को देख जी में आता है रोके रखा जाए उस निर्मोही प्रियतम को.. पांचवां मुक्तक तो गज़ब का है..शोक और श्रृंगार का मेल इतना सुन्दर भी हो सकता है यहाँ दिखाई दिया... मगर उसके भाव भी उस विरहिणी को सुनाते तो अच्छा होता:
    दिल में उठी यह टीस,
    तुम्हारे विरह से नहीं उपजी थी,
    चुभ गया था जेब में पड़ा
    तुम्हारी टूटी हुई चूड़ी का टुकड़ा!!
    कमाल की प्रस्तुति है अरुण जी!! सीधा दिल में उतर जाने वाली!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. ऐसा होता है तो कारण है सरकार। कोई भला क्यों जाता है परदेस?…

    उत्तर देंहटाएं
  23. चूल्हा
    अब अकेला
    नहीं जलता
    साथ देती हूं मैं
    तुम्हारे जाने के बाद...

    तुम जो पहिरा के गए थे
    हरी वाली चूड़ी
    अब भी वही चल रही है
    कलाई में
    रहते थे तो
    कितनी टूटती थी ये
    मजबूत है
    हम दोनों का जियरा .
    speechless... .. vireh ki vedna ...ufffffffff

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही भावपूर्ण क्षणिकाएं!,बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  25. पिछली चिट्ठी में
    जिक्र था सबका
    बस मैं ही तो
    रह गई थी
    फिर भी है
    अगली चिट्ठी का
    इन्तजार

    राय जी, आपने जीवन के सही संदर्भों एक आत्मीय तथ्य को प्रकाश में लाया है । मैं भी आपके विचारों से सहमत हूँ । उन स्त्रियों के उपर जो बीतती है उसे तो वे ही जानती हैं ।
    भोजपुरी में एक गाना है -
    जाके परदेशवा में भुलाई गईल राजा जी
    सपना के झुलुआ झुलाई गईल राजा जी ।
    इसे सुनकर मन में कितना गहरा विषाद भर जाता है । मेरे पोस्ट " मुझे मेरे गांव में गांव का निशाँ नही मिलता" पर भी कभी समय मिले तो आकर मेरा भी मनोबल बढाएं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  26. भाव प्रभावशाली रूप से अभिव्यक्त हुए हैं इन क्षणिकाओं में!

    उत्तर देंहटाएं



  27. अरुण चन्द्र रॉय जी
    नमस्कार !

    कमाल की क्षणिकाएं हैं … सचमुच !
    हर क्षणिका को उद्धृत समझें …
    :)

    आप जैसे मेरे पसंदीदा रचनाकार की इतनी ख़ूबसूरत रचनाएं पढ़ने विलंब से पहुंच पाया हूं … इतना-सा मलाल है … बहुत मन से मुबारकबाद है …


    … और त्यौंहारों के इस सीजन सहित
    आपको सपरिवार
    दीपावली की अग्रिम बधाइयां !
    शुभकामनाएं !
    मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  28. सारी की सारी क्षणिकाएं बहुत सुन्दर....अरुण जी

    उत्तर देंहटाएं
  29. पिछली चिट्ठी में
    जिक्र था सबका
    बस मैं ही तो
    रह गई थी
    फिर भी है
    अगली चिट्ठी का
    इन्तजार.

    सच कह रहे है अरुण जी. उन महिलाओं का दर्द को आपने क्षणिकाओं के माध्यम बखूबी प्रस्तुत किया है. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  30. भिगो गई अंदर तक ... दर्द को शब्द दे दिए हैं आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सुन्दर विरह वर्णन किया है आपने.
    हर शब्द विरह में डूबा हृदयस्पर्शी है,
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं