शुक्रवार, 29 अगस्त 2014

आग

तुम्हे सोचते हुए 
मुझे याद आती है 
आग 
जो पकाती है रोटी, 
सुलगाती है बोरसी 
और 
अकेले होती है 
बुझ जाने के बाद 

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी कविताएं पढ़ते हुए अच्छा लग रहा है अरुण जी ।
    इस कविता में आप शायद भूलवश पकाता सुलगाता लिख गए हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आग की अहमियत .......... रोटी जरुरी है !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब ... बुझ जाने के बाद तो सब कुछ अकेले ही हो जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं