शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2010

चाँद पर पहुचना है तो हौसला कीजिये

चाँद पर पहुचना है तो हौसला कीजिये
किस तरफ जायेंगे आप फैसला कीजिये

मंजिल मुश्किल है सफ़र लम्बा
पहुचना है तो खुद को काफिला कीजिये

चुप हैं लोग डर कर हादसों से
कहीं चिंगारी दिखे तो हवा कीजिये

बाज़ार सजा है हर चीज़ का
कहीं आदमी मिले तो खरीदा कीजिये

रौशनी भरमायेगी बहुत इस दुनिया में
कहीं जलता दिया मिले तो दुआ कीजिये

प्यार मुश्किल है इस दौर में
बक्सिमत कहीं मिल जाए तो वफ़ा कीजिये

चाँद पर पहुचना है तो हौसला कीजिये
किस तरफ जायेंगे आप फैसला कीजिये

4 टिप्‍पणियां:

  1. रौशनी भरमायेगी बहुत इस दुनिया में
    कहीं जलता दिया मिले तो दुआ कीजिये

    -वाह!! बहुत खूब कहा!

    उत्तर देंहटाएं
  2. चाँद पर पहुचना है तो हौसला कीजिये
    किस तरफ जायेंगे आप फैसला कीजिये
    अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. रौशनी भरमायेगी बहुत इस दुनिया में
    कहीं जलता दिया मिले तो दुआ कीजिये
    bahut hi badhiyaa

    उत्तर देंहटाएं
  4. रौशनी भरमायेगी बहुत इस दुनिया में
    कहीं जलता दिया मिले तो दुआ कीजिये

    प्यार मुश्किल है इस दौर में
    बक्सिमत कहीं मिल जाए तो वफ़ा कीजिये
    very touching lines these are. dil ko chhoo dene aur boost karne vali kavita ke liye bahut shubhkamna..........

    उत्तर देंहटाएं