मंगलवार, 13 दिसंबर 2011

गृहस्थी : कुछ क्षणिकाएं



१,
आटा 
थोडा गीला
फिर भी गीली
तुम्हारी हंसी

२.
मैं 
तुम 
बच्चे , 
गीले बिस्तर की गंध 
कितनी  सुगंध 

३.
न कभी 
गुलाब 
न कोई 
गीत 
फिर भी जीवन में 
कितना संगीत 

४.
सूखी रोटी
नून 
और तेरा साथ , 
आह ! कितना स्वाद 

५.
तीज 
त्यौहार पर 
तेरा उपवास 
गरीबी को छुपाने का 
अदभुत प्रयास 

42 टिप्‍पणियां:

  1. अरुण जी
    नमस्कार !
    बहुत मर्मस्पर्शी क्षणिकाएं मन को छू गईं

    उत्तर देंहटाएं
  2. संवेदनशील और गहरे एहसासों से भरी है....क्षणिकाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. न कभी
    गुलाब
    न कोई
    गीत
    फिर भी जीवन में
    कितना संगीत
    Nihayat sundar panktiyan!

    उत्तर देंहटाएं
  4. तीज
    त्यौहार पर
    तेरा उपवास
    गरीबी को छुपाने का
    अदभुत प्रयास
    अद्भुत क्षणिकाएं... एहसास से गुनी गुथी!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. तीज
    त्यौहार पर
    तेरा उपवास
    गरीबी को छुपाने का
    अदभुत प्रयास

    इस क्षणिका ने मन को छू लिया !
    सारी क्षणिकाएं अच्छी लगीं !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक गृहलक्ष्मी की सम्पूर्ण जीवन कथा इन क्शंकाओं में सिमट आयी है!!अरुण जी आप साधुवाद के पात्र हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    कल 14/12/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, मसीहा बनने का संस्‍कार लिए ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. सूखी रोटी
    नून
    और तेरा साथ ,
    आह ! कितना स्वाद
    बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  10. न कभी
    गुलाब
    न कोई
    गीत
    फिर भी जीवन में
    कितना संगीत

    सारी क्षणिकाएं बहुत ही अर्थपूर्ण और ख़ूबसूरत हैं

    उत्तर देंहटाएं
  11. अति सुन्दर |
    शुभकामनाएं ||
    terahsatrah.blogspot.com
    dcgpthravikar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  12. rashmi ravija ने आपकी पोस्ट " गृहस्थी : कुछ क्षणिकाएं " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    न कभी
    गुलाब
    न कोई
    गीत
    फिर भी जीवन में
    कितना संगीत

    सारी क्षणिकाएं बहुत ही अर्थपूर्ण और ख़ूबसूरत हैं

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी प्रवि्ष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!
    शुभकामनाओं सहित!

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह, छोटी छोटी बातों में छिपा बड़ा प्यार।

    उत्तर देंहटाएं
  15. अरुण जी,आपके लेखन में जादू है जी.
    दिल में जगह बना लेता है.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  16. ASHA BISHT ने आपकी पोस्ट " गृहस्थी : कुछ क्षणिकाएं " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    sundar ahsason se bhari...

    उत्तर देंहटाएं
  17. सभी....बहुत जबरदस्त!! आनन्द आ गया!

    उत्तर देंहटाएं
  18. एहसासों का समंदर बिछा दिया मानो. खूबसूरत!

    उत्तर देंहटाएं
  19. लाज़वाब! सभी क्षणिकाएं दिल को छू गयीं..

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैं
    तुम
    बच्चे ,
    गीले बिस्तर की गंध
    कितनी सुगंध
    .....
    कैसे अभी तक वो गंध / सुगंध आपकी स्मृतियों में बची बसी हुई रह गयी मैं तो यही सोंच कर हैरान हूँ !
    अरुण जी सच में कमाल हैं है आप मानो आप मेरी बात एक आना भी अतिशयोक्ति नहीं बोलता मैं अपनी कोशिश भर !

    उत्तर देंहटाएं
  21. लाजवाब अरुण जी ... बहुत समय बाद आपको पढ़ने को मिला ... बहुत ही सम्वेदंशेल हमेशा की तरह ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. अरुण जी इन कविताओं (हां, मैं तो हरेक को पूरी कविता ही मान रहा हूं) में आपने तो जीवन के सबसे अधिक भवुक क्षणों को गूंथ दिया है। प्रत्येक कविता से असंक्य कहानिया घर कर गई मन में।

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह...वाह...वाह...

    सभी के सभी बेजोड़, पर अंतिम वाली की तो क्या कहूँ....

    लाजवाब...

    उत्तर देंहटाएं
  24. तीज
    त्यौहार पर
    तेरा उपवास
    गरीबी को छुपाने का
    अदभुत प्रयास

    बहुत सुन्दर |

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सुन्दर क्षणिकाएं| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुन्दर प्रस्तुति । मेरे मए पोस्ट नकेनवाद पर आप सादर आमंत्रित हैं । धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  27. तीज
    त्यौहार पर
    तेरा उपवास
    गरीबी को छुपाने का
    अदभुत प्रयास...

    bahut sundar..

    .

    उत्तर देंहटाएं
  28. संवेदनशील और गहरे एहसासों से लवरेज सुंदर क्षणिकाएँ. बधाई सुंदर प्रस्तुति के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  29. जब भी आपके पोस्ट पर आया हूँ, हर समय कुछ न कुछ सीखने वाला चीज मिला है। यह पोस्ट अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट "खुशवंत सिंह" पर आपकी प्रतिक्रियायों की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी। धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं