शुक्रवार, 27 जुलाई 2012

ईश्वर




१.

ईश्वर की
होती है जो इच्छा
वह कर लेता है
उसके पास समय हैं
संसाधन हैं
बल है
छल है
बहाने हैं
क्योंकि वह ईश्वर है


२.

इधर
ईश्वर
नहीं सुनता है
प्रार्थनाएं
चीखें
अनुनाद
अनुरोध
क्योंकि
ईश्वर होता जा रहा है
निरंकुश


३.

जब तक
ईश्वर को
मालूम है कि
सुरक्षित है
उसकी सत्ता
ईश्वर
रहेगा ऐसा ही

28 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर !
    हाँ कुछ हो तो रहा है
    ईश्वर को !

    क्या परेशानी है
    चलो हम तुम भी
    ईश्वर हो जाते हैं
    अपनी सत्ता अपने
    आप चलाते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. कायम रहेगी
    ईश्वर की सत्ता
    सदा..
    मिटा देता है वो
    नास्तिकों को.

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ... बेहद सशक्‍त भाव अनुपम प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. निरंकुशता को रोकने के लिए ईश्वर का भय होना ज़रूरी है और जब तक भय है तब तक ईश्वरकी सत्ता है .... सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (28-07-2012) के चर्चा मंच पर लगाई गई है!
    चर्चा मंच सजा दिया, देख लीजिए आप।
    टिप्पणियों से किसी को, देना मत सन्ताप।।
    मित्रभाव से सभी को, देना सही सुझाव।
    शिष्ट आचरण से सदा, अंकित करना भाव।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या कहूँ इस रचना के लिये ………ईश्वर को माध्यम बनाकर बहुत गहरी बात कह दी………आज के हालात का सटीक चित्रण कर दिया

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरुण जी विरोध के लिये ईश्वर को ही माध्यम बनाने का यह आग्रह क्यों । विरोध के लिये और भी तो कितना कुछ है । फिर भी कविता अच्छी है ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. गिरिजा जी, आपके इस प्रश्न पर मुझे सगीना माहतो का गया गीत बरबस याद आ गया, शायद वह भी एक उत्तर हो इस प्रश्न का --
      “ऊपर वाला दुखियों की नाही सुनता रे!
      कौन है जो उसको गगन से उतारे!!?”

      हटाएं
  8. शायद इसीलिए मुझे इन पर भरोसा ही नहीं रहा ...
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. होता वही जब चाहता, जो ईश्वर की मर्जी
    जतन चाहे जितना करो,लाख लगाओ अर्जी,,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    उत्तर देंहटाएं
  10. ईश्वर पर भी पॉवर का असर होना ही है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सर्वशक्तिमान जो है वो..... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  12. इंसान... ईश्वर बनने की कोशिश करेगा तो यही होगा....
    सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. अरुण जी,आपके ब्लॉग पर देरी से आने के लिए पहले तो क्षमा चाहता हूँ. कुछ ऐसी व्यस्तताएं रहीं के मुझे ब्लॉग जगत से दूर रहना पड़ा...अब इस हर्जाने की भरपाई आपकी सभी पुरानी रचनाएँ पढ़ कर करूँगा....कमेन्ट भले सब पर न कर पाऊं लेकिन पढूंगा जरूर

    जब तक
    ईश्वर को
    मालूम है कि
    सुरक्षित है
    उसकी सत्ता
    ईश्वर
    रहेगा ऐसा ही

    वाह...अद्भुत रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. ईश्वर ईश्वर है, उस पर किसका जोर है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. ईश्वर के सिंघासन को चुनौती दे डाली इस रचना से.

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  16. इसको यूं कहें कि आज के दौर में जिसमें
    बल है
    छल है
    बहाने हैं

    वह ईश्वर है

    उत्तर देंहटाएं
  17. या फिर ये कहें कि
    जो होता जा रहा है
    निरंकुश
    वह ईश्वर है

    उत्तर देंहटाएं
  18. या फिर यह मान लें
    कि
    सुरक्षित है
    सत्ता
    इसलिए वह अपने को
    ईश्वर
    समझ बैठा है

    उत्तर देंहटाएं
  19. इसको यूं कहें कि आज के दौर में जिसमें
    बल है
    छल है
    बहाने हैं

    वह ईश्वर है
    total agreed with SHRI MANOJ KUMAR BHAIYA

    उत्तर देंहटाएं
  20. क्या खूब कहा है.. एक तरफ़ा बल हानिकारक है.. चाहे वो इश्वर के पास ही क्यों न हो..

    उत्तर देंहटाएं
  21. ईश्वर तो ईश्वर है सर्वोपरि माना जाता है..अद्भुत रचना..मेरे ब्लांग मेंआने केलिए आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत खूब ... इंसान ही है जो ईश्वर की भी सत्ता बनाता है ... उसे अपना भगवान बनाता है और वो जड़ हो जाता है उसी रूप में ... गहरी सोच से उपजी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं