बुधवार, 13 अप्रैल 2011

वार्षिक रिपोर्ट


इन दिनों
जब फूल झड़ रहे होते हैं
बगीचो से
पत्ते सूख रहे होते है
उपयुक्त समय होता है
  कंपनियों के लिये
वार्षिक रिपोर्ट के प्रस्तुतिकरण का.

निदेशक मन्डल की रिपोर्ट में
होती है ज़ुगाली शब्दों की
भाषा पर जिनकी होती है
भरपूर पकड़
शब्द जिनकी  मुट्ठियो में
कसमसाते  हैं
वे तैयार करते हैं
निदेशको की रिपोर्ट
कवि नही होते वे
लेकिन एक अलग तरह का
स्वप्न रचते हैं
 
अधिक नीला दिखाते हैं
आसमान को
सूचकांक के उतार चढाव को
जयाज ठहराने के लिए
होता है उनमें अकाट्य तर्क.

पिछली पतझड़  से
इस पतझड के बीच के
आय व्यय का होता है 
पूरा हिसाब
आंकड़ों के माध्यम से
इन छपे हुए आंकड़ों के मौन में
होता है तरह तरह के
जोड तोड और जुगाड का पूरा ब्यौरा
आखिर आंकड़े तो निर्जीव हैं
कौन पूछ्ता है इनकी मर्ज़ी

तुलन पत्र में
होती है तुलना
परिसंपत्तियों और
देयताओं की 
लेकिन यह क्या (!)
बराबर कर दी जाती हैं
परिसंपत्तियां और देयताएं
अपना कर तरह तरह के हथकंडे
जो जितने बड़े हथकंडे का सुझाव देता है
होता है उतना ही सफल
उतनी ही भारी होती है उसकी प्रोफेशनल फीस

निदेशक मंडल का नाम
तस्वीर और उपलब्धियों सहित
दर्ज होता है 
वार्षिक रिपोर्ट में
लेकिन अनुपस्थित रहते हैं वे नाम
जो गुम हो गए हैं
कंपनी के विभिन्न परियोजना स्थलों पर
उनके बच्चों की सिसकती तस्वीरें
वाटरमार्क में मिल जाएँगी
इन रिपोर्टों के पन्नो पर
बशर्ते ध्यान से जो देखा जाय

सभी स्टेकधारकों को
करने के लिए प्रभावित
वार्षिक रिपोर्ट में
होता है कुछ न कुछ
जैसे सरकार के लिए कर
शेयरधारकों के लिए लाभांश
विदेशी निवेशक के लिए बाज़ार में पहुँच
ग्राहकों के लिए ब्रांड मूल्य
घरेलू निवेशको के लिए
आने वाले साल के लिए योजनाओं का ब्यौरा 
उन ब्यौरों  के लिए आरक्षित निधि का जिक्र
और इस तमाम गुणा-भाग में
छूट जाते हैं
ठेके पर सोलह घंटे काम करने वाले
मेरे कामगार दोस्त.

आयातित आर्ट कार्ड कागज़ पर
सिंथेटिक स्याही से छपने और
प्लास्टिक से लैमिनेट होने वाली
वार्षिक रिपोर्ट के आवरण पृष्ठ पर
होता है बेहद आकर्षक नारा
पर्यावरण बचाने के लिए
साथ में होता है एक पेड़ का चित्र भी.

बड़ा विचित्र और
विचलित कर देने वाली होती  है

वार्षिक रिपोर्ट.

25 टिप्‍पणियां:

  1. आयातित आर्ट कार्ड कागज़ पर
    सिंथेटिक स्याही से छपने और
    प्लास्टिक से लैमिनेट होने वाली
    वार्षिक रिपोर्ट के आवरण पृष्ठ पर
    होता है बेहद आकर्षक नारा
    पर्यावरण बचाने के लिए
    साथ में होता है एक पेड़ का चित्र भी.

    बड़ा विचित्र और
    विचलित कर देने वाली होती है
    वार्षिक रिपोर्ट. jane kitne ankahe ko darshati rachna

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (14-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. आकड़ों जैसे गिरते पत्ते, पतझड़ के।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरुण जी
    एक बार फिर आपकी कलम से बेहतरीन कविता निकली है……………आपकी तरह आकलन भी हर कोई नही कर पाता……………ज़िन्दगी का आकलन कर दिया आपने और रिपोर्ट ने ज़िन्दगी को हिला दिया……………बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आंकड़ों की बाजीगरी होती है वार्षिक रिपोर्ट. तय सिर्फ इतना करना होता है कि सच्चाई का प्रतिशत कितना रक्खा जय. सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरुण जी,
    क्या कमाल करते है आप ,कारपोरेट जगत का कच्चा चिटठा खोल
    आपकी इस सुन्दर पोस्ट ने, तो खोली कर रखदी है ढोल की पोल
    अब यह नजर आ रहा है,सब कुछ होता है गोलम गोल
    पिछली पतझड़ से इस पतझड़ तक,होती है जबरदस्त तोल मोल

    उत्तर देंहटाएं
  7. patjhad se patjhad ke beech jhadte sapne hote hisab kitab ka sunder hisab....

    उत्तर देंहटाएं
  8. यथार्थ की बेहतरीन प्रस्तुति !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह भी एक पतझड़ ही है जहाँ आंकड़े गिरते हैं पत्तों कि तरह..
    बहुत सटीक, भावपूर्ण अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  10. और इस तमाम गुणा-भाग में
    छूट जाते हैं
    ठेके पर सोलह घंटे काम करने वाले
    मेरे कामगार दोस्त.

    वार्षिक रिपोर्टों की यथार्थपरक सच तो यही है

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सटीक और सामयिक कविता...बिलकुल अलग सी

    उत्तर देंहटाएं
  12. निदेशक मंडल का नाम
    तस्वीर और उपलब्धियों सहित
    दर्ज होता है
    वार्षिक रिपोर्ट में
    लेकिन अनुपस्थित रहते हैं वे नाम
    जो गुम हो गए हैं
    कंपनी के विभिन्न परियोजना स्थलों पर
    उनके बच्चों की सिसकती तस्वीरें
    वाटरमार्क में मिल जाएँगी
    इन रिपोर्टों के पन्नो पर
    बशर्ते ध्यान से जो देखा जाय
    भाई अरुण जी आपकी कविताओं में हमेशा कंटेंट की ताजगी मिलती है इसलिए पढ़ने में आनंद आता है बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैं तो कोई और ही वार्षिक रिपोर्ट समझ गया ... वही जो गोपनीय होता है और जिसके लिए सीनियर साल भर धमकी देते रहते हैं कि `I will endorse in your Anual Report'!
    पर यहां तो मामला कुछ और ही है।
    कविता में अरुण नहीं कोई सेठ घुसा मिला।
    बैक टू अरुण!

    उत्तर देंहटाएं
  14. अरुण जी,
    बहुत ही सटीक....वार्षिक रिपोर्ट ....…बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सटीक और सामयिक कविता|धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  16. अधिक नीला दिखाते हैं
    आसमान को
    सूचकांक के उतार चढाव को
    जयाज ठहराने के लिए
    होता है उनमें अकाट्य तर्क.

    नए बिम्बों के सृजन में आपको महारत हासिल है ..इस नए बिम्ब के माध्यम से आपने कई सच्चाईयों को वयां कर दिया ...आपका आभार इस रचना के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  17. अरुण जी,

    शब्द नहीं है इस पोस्ट की तारीफ के लिए .....कुछ अलग....कुछ हटकर .....शानदार....प्रशंसनीय |

    उत्तर देंहटाएं
  18. दो और दो मिलकर चार और पांच से आगे निकलकर,जितना मालिक चाहे उतना बनाकर दिखाता है यह लेखाकार जिसे वार्षिक रिपोर्ट कहते हैं.. ज़बरदस्त रचना है अरुण जी!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. Such nice description of annual report.... front end and back end disclosures, nice words...

    उत्तर देंहटाएं
  20. अक्षरश: सत्‍य ...बहुत ही अनुपम प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. विषय का चयन नायाब है. (यहां भी निकल सकती है कविता!)

    उत्तर देंहटाएं
  22. अपने तो बेलंस शीट की कविता खींच दी .... क्या ग़ज़ब की प्रस्तुति है ...

    उत्तर देंहटाएं