मंगलवार, 28 फ़रवरी 2012

जयदीप शेखर की किताब "नाज़ ए हिंद सुभाष" श्री लाल कृष्ण अडवानी जी तक पहुची


२७ फ़रवरी २०१२ को तीन बजे दिल्ली के प्रगति मैदान में विश्व पुस्तक मेले में ज्योतिपर्व प्रकाशन से प्रकाशित जयदीप शेखर की किताब "नाज़ ए हिंद सुभाष" का विमोचन हिंदी के प्रतिष्ठित कथाकार श्री संजीव जी के हाथों संपन्न हुआ.

हंस के कार्यकारी संपादक श्री संजीव, डॉ. अग्रवाल,डॉ.शेरजंग गर्ग और मदन कश्यप (साथ में सलिल वर्मा जी) जयदीप शेखर जी की पुस्तक "नाज़ ए हिंद सुभाष"का विमोचन करते हुए
 

अडवाणी जी पुस्तक स्वीकार करते हुए


नाज़ ए हिंद पुस्तक के बारे में अडवाणी जी जानकारी लेते हुए

पुस्तक के आकर्षक आवरण को देखते हुए अडवाणी जी

अडवाणी जी ने पुस्तक को पढ़कर प्रतिक्रिया देने का आश्वासन दिया
ठीक एक घंटे बाद यह पुस्तक श्री लाल कृष्ण अडवाणी जी तक पहुच गई. जितनी ईमानदारी से यह पुस्तक लिखी गई है, नेताजी सुभाष जी पर एक नयी बहस शुरू होगी. अडवाणी जी स्वयं इस पुस्तक के कुछ पन्ने पढ़े. बाकी उन्होंने आश्वासन दिया है कि इस पुस्तक पर वे अपनी प्रतिक्रिया  जरुर भिजवाएंगे. 

जयदीप शेखर जी को बधाई.

31 टिप्‍पणियां:

  1. बधाई
    अरुण जी आप आडवाणी जी से रू-ब-रू हैं।

    क्या बात है!
    शुभकामनाएं प्रकाशन के लिए और सफल पुस्तक विमोचन के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  2. १ या दो मार्च को दिल्ली आऊंगा तो मेले में स्टॉल पर भेंट होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. लेखक,प्रकाशक और पाठक भी बधाई के पात्र हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई भाई अरुण जी इस किताब के बारे में चर्चा करने के लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  5. बधाई आप व शेखर जी दोनों को ,
    जज्ज्बातों की लौ सतत कायम रहेगी अब विस्वास हो चला है .......

    उत्तर देंहटाएं
  6. जयदीप शेखर जैसे व्यक्ति के लिए उनके वर्षों के अथक प्रयास, लगन और शोध का सम्मान है यह...!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. koi vyakti kaise aage badhta hai aur multifarious hota hai, aapse seekhe..!!
    sach kahun jab tak aapse nahi mila tha to aapko koi khussat sa kavi jaisa hi man me tha, fir ham mile aur pata chala ki aap to mere hamumra ho.. par shuru se aapkee kavita ka namurid raha..(aapne kuchh tips bhi diya) fir aapne prakashan jagat me apna haath failya aur pahle baar hi saare achchhe pustako ke saath agaaj kiya.. bejor laga.. fir Shri Adwani jee ne aakar aapke karm ko sarthak bana diya...!! aap bahut aage jayen... god bless!

    उत्तर देंहटाएं
  8. विश्व पुस्तक मेला २०१२ में ज्योतिपर्व प्रकाशन ने अपना पहला कदम रखा और सुर्ख़ियों में आ गया. एतिहासिक विषयवस्तु पर अपने लोकप्रिय नेताजी के बारे में अनछुए तथ्यों को ऊजागर करने का साहस दिखाया है वह भी प्रशंसनीय है . पहले प्रयास में ही श्री आडवाणी का ध्यान आकृष्ट करने की क्षमता ज्योतिपर्व प्रकाशन की अपार सफलता , गुणवत्ता, प्रबुद्ध पाठकों तक सहज पहुँच का परिचय दे रही है. जयदीप जी और ज्योतिपर्व प्रकाशन को इस उपलब्धि के लिए बहुत शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुबारक हो आपको और आपके प्रकाशन को

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बहुत बधाई अरुण जी आपको और ज्योतिपर्व प्रकाशन को ...
    जीडीप जी को भी बधाई ... भारत आने पे अपनी प्रति ले लूँगा आपसे ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. अरुण जी आपको और जयदीप जी दोनो को बधाई……………और शुभकामनायें आपका प्रकाशन सफ़लता के नये कीर्तिमान गढे।

    उत्तर देंहटाएं
  12. जितनी शिद्दत और इमानदारी से जयदीप शेखर जी ने इस पुस्तक को लिखा है उतनी ही शिद्दत और इमानदारी से इस पुस्तक के प्रकाशक अरुण राय जी ने इस पुस्तक को उन हाथो तक पहुंचा दिया जहाँ तक पहुंचना इतना आसान न था !

    इस पुस्तक से जुड़े हुए सभी लोगो को मेरी हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !


    जय हिंद !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत-बहुत बधाइयाँ...इस उपलब्धि के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  14. अरूण जी,
    शुभकामनायें. आपकी लगन वाकई काबिले-तारीफ है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत मिस किया हमने पर
    २७ फरवरी को मेरा इंटर विव होने के कारण हम पुस्तक मेले नहीं पहुच पाए .......इसीलिए माफ़ी चाहता हूँ अरुण जी
    ........

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक बधाई इस शोषित लेखक की भी स्‍वीकार लीजिए प्रकाशक बंधु। अब तो आप एक बृहद व्‍यक्तित्‍व एवं पहुंच के स्‍वामी बन गए हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत बहुत बधाई अरुण जी ......:))

    पर ये अविनाश जी ने ऐसा क्यों लिखा .....?

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह! बहुत सुन्दर.
    सफलता के लिए बधाई और शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर...हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  20. Akalpania,badhai svekarei from aalok pandit nehtour (bijnor)

    उत्तर देंहटाएं