सोमवार, 28 अक्तूबर 2013

वह कामरेड न हो सका




उसे 
बोझ ढोने से 
फुर्सत नहीं मिली 
जो बनाता 
मुट्ठियाँ
लगाता नारे 
उठता झंडा 
वह कामरेड न हो सका 

उसके घर का चूल्हा
 दो वक्त 
जला नहीं कभी 
नियमित 
जो जा सके वह 
किसी रैली में 
सुनने किसी का भाषण 
ढोने पार्टी का झंडा 
वह कामरेड न हो सका 

वह कभी 
स्कूल न गया 
फिर कैसे पढ़ पाता वह 
दास कैपिटल 
वह सुनता रहा 
मानस की चौपाइयां 
कबीर की सखियाँ 
वह कामरेड न हो सका 

उसे 
बचपन से ही 
लगता था डर 
लाल रंग से 
प्राण निकल जाते थे उसके 
छीलने पर घुटने 
उसे प्रिय था 
खेतो की हरियाली 
वह कामरेड  हो न सका 

10 टिप्‍पणियां:

  1. उसके घर का चूल्हा
    दो वक्त
    जला नहीं कभी
    नियमित
    जो जा सके वह
    किसी रैली में
    सुनने किसी का भाषण
    ढोने पार्टी का झंडा
    वह कामरेड न हो सका ,,,,

    लाजबाब ,बहुत सुंदर प्रस्तुति ,,,

    RECENT POST -: तुलसी बिन सून लगे अंगना

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार २९ /१० /१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बाकी सब कामरेड हो गये !
    बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  4. मजदूर की बेचारगी उसे कुछ नहीं होने देती ...
    बहुत ही गहरी संवेदना लिए ... सच को दांतों से उठाए ... उम्दा रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह...उत्तम लेखन ...दीपावली की शुभकामनाएं.....

    उत्तर देंहटाएं