मंगलवार, 29 मार्च 2011

मेरे कैनवास के चित्र

इन दिनों मैं
बनाना चाह रहा हूँ
एक चित्र
पूरी असफलता से

एक आदमी
बनाना चाह रहा हूँ
लेकिन बन नहीं पा रहा
जो बनाया इसका सिर
बन गया बहुत बड़ा विशाल 
और अनगिनत वायरों में उलझ गया 

इसके हाथ
आम आदमी के हाथ से
बन गए काफी बड़े और
उंगलियाँ बन गईं
मोबाइल के टावर सी
और नाखून उग आये
इस चित्र में
नाखून बढ़ने लगे
बेहिसाब और
कुरेदने लगे
धरती की आंतें
रक्त रंजित हो गया
वातावरण और आवरण

जो बनाने लगा पैर
वामन से बन गए
चट्टानों से पैर के नीचे
आने लगे पेड़ पौधे
पहाड़ और नदियाँ
रेगिस्तान
अचानक बढ़ने लगा
रेगिस्तान का आकार
उसमे उगने लगे नागफनी
हर तरफ

तूलिका से
जो खींचा कैनवास पर
आसमान की  पृष्ठभूमि
रंग स्वयं बदल गया
नीले से स्याह
धुंए के गुबार से भर गया
आसमान

मशीन सा हो गया
मेरे चित्र का मानव
यंत्रों की तरह हो गई
संवेदनाएं उसकी
कृत्रिम सा हो गया
फूलों का रंग
उसके बगीचे में
डरी सी है चिड़िया
गुमसुम
गंध कुछ हो गई
पेट्रोल सी

बनाया जो
उसका ह्रदय
संकुचित सा बन गया वह
खुल ही नहीं रहे उसके कपाट
मानव जन्य भाव
उत्पन्न ही नहीं हो रहे 
उसके चेहरे को
जो रंगना चाहा हल्के गुलाबी रंग में
कुछ ईंटों सा हो गया उसका रंग
सिलवटें भी आड़ी तिरछी नहीं बनी
बल्कि दीवार सी हो गईं सीधी सपाट 
संज्ञा विहीन

मेरे कैनवास पर
बने इस चित्र का यह
असमानुपातिक  मानव
कर रहा है हासिल
ज्ञान विज्ञान कला के क्षेत्र में
तरह तरह की उपलब्धियां
लोग पसंद कर रहे हैं इसे
विभिन्न गैलरियों  में
पूछ हो गई है इसकी
लिया  जा रहा  है इसका  साक्षात्कार
 
जबकि
मेरा ही एक और चित्र
जिसमे  उसकी आँखों मे झील है 
और पानी इतना पारदर्शी कि
झील की  तलहटी में 
बसी मछलियाँ यूं ही दिखती हैं
करती  अटखेलियाँ
उसमे एक बच्चा भी है
तितलियों के पीछे भागता
एक गौरैया पेड़ की डाल पर
खुश दिख रही है , 
उतार दिया गया  है दीवार से
पड़ा है अकेला .

23 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे कैनवास पर
    बने इस चित्र का यह
    असमानुपातिक मानव
    कर रहा है हासिल
    ज्ञान विज्ञान कला के क्षेत्र में
    तरह तरह की उपलब्धियां
    लोग पसंद कर रहे हैं इसे
    विभिन्न गैलरियों में
    पूछ हो गई है इसकी
    लिया जा रहा है इसका साक्षात्कार yahi to vidambana hai aaj ke samay ki...na sirf aadmi samvedana rishte bhavnaye maryadaye sabhi to asmanupatik ho gaye hai ....bahut gahan peeda hai is abhivyakti me...

    उत्तर देंहटाएं
  2. तितलियों के पीछे भागता
    एक गौरैया पेड़ की डाल पर
    खुश दिख रही है ,
    उतार दिया गया है दीवार से
    पड़ा है अकेला
    bahut sundar bhavabhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता में मुक्तिबोध के ’ब्रह्मराक्षस’ की झलक मिलती है। तथाकथित विकास की विभिषिका का ब्लू-प्रिंट ! साथ में अपनी संस्कृति और सरोकारों से दूर होने की व्यथा भी। कविता अपेक्षाकृत बौद्धिक बन गयी है... किन्तु यह विषय भी तो तथाकथित बुद्धिजीवियों के लिये ही है। धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मशीन सा हो गया
    मेरे चित्र का मानव
    यंत्रों की तरह हो गई
    संवेदनाएं उसकी
    sachchi rekhayen khinchi hain

    उत्तर देंहटाएं
  5. विकास की कितनी भारी कीमत चुकानी पड़ रही है हमें...इस सार्थक रचना के लिए बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  6. पन्‍ने की कहानी का महत्‍व हाशिये पर अंकित किया जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. nishavd hoo mai......
    ati snder abhivykti man me chal rahe bhoochaal kee.......

    उत्तर देंहटाएं
  8. जबकि
    मेरा ही एक और चित्र
    जिसमे उसकी आँखों मे झील है
    और पानी इतना पारदर्शी कि
    झील की तलहटी में
    बसी मछलियाँ यूं ही दिखती हैं
    करती अटखेलियाँ
    उसमे एक बच्चा भी है
    तितलियों के पीछे भागता
    एक गौरैया पेड़ की डाल पर
    खुश दिख रही है ,
    उतार दिया गया है दीवार से
    पड़ा है अकेला .
    ....
    आज जब मानव मशीन बन गया है तो यह सब तो होगा ही और मासूम बच्चे का तितली वाला चित्र किसे अच्छा लगेगा और इसका दीवार से उतरना तो इसकी नयति होगी ही..इतनी विभीषिकाओं के बाद भी मानव समझने के लिये तैयार नहीं है..बहुत भावपूर्ण उत्कृष्ट रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  9. आधुनिक मानव है यह तो, पुरानी परिकल्पनायें छोड़ इसका आकार रचें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. यही है शायद आज का अभी का मानव, आपका चित्र सही है । बढिया प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. समाज के उद्योगीकरण और भौतिकतावादी स्वभाव के कारण मानव मूल्य में परिवर्तन आया है। जीवन धारा और सोच विचित्र हो गई है। अविश्वास, संत्रास, खालीपन, हतोत्साह, निराशा, कुंठा, अकेलापन आदि के कारण मनुष्य को यह बोध कराता है कि सब आधा है, अधूरा है। और जो चित्र बनता है वह पूरा नही हो पाता। उसे पूरा करने की तलाश ज़ारी है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. अरुण जी,

    हैट्स ऑफ ......इस पोस्ट के लिए......शानदार व्यंग्यात्मक कटाक्ष........सुभानाल्लाह |

    उत्तर देंहटाएं
  13. वर्तमान हालातों का और अच्छाई/बुराई का बड़ा सजीव चित्रण किया है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (31-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  15. अदभुत कैनवास के माध्यम से आपने कितने ही भावों को खूबसूरती से उकेर डाला है.अब समझ आता है कि ब्रह्मा जी को सृष्टि निर्माण के लिए कितना यज्ञ और तप करना पड़ा होगा.श्रीमद्भागवतमें ब्रह्मा की बनाई शुरू की सृष्टियों के सम्बन्ध में बड़ी निकृष्ट सृष्टियों का भी वर्णन किया गया है.
    आपसे एक बार फिर प्रार्थना है आप मेरे ब्लॉग पर आकर मुझे गुण दोष के आधार पर विवेचना से अवगत कराएँ.एक ब्लोगर को आपत्ति है मेरी पोस्टों से.आपका आभारी हूँगा.

    उत्तर देंहटाएं
  16. कविता भी जन्मजात होती है ....क्या चित्र उकेरें हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. apne garbh me kitni bhavon ko sameti hui rachana...prabhavi...prasanshneey...badhai

    उत्तर देंहटाएं
  18. मशीन सा हो गया
    मेरे चित्र का मानव
    यंत्रों की तरह हो गई
    संवेदनाएं उसकी ...

    विकास की इतनी कीमत तो चुकानी ही पड़ेगी ...
    आज का सच लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. बदलते पर्यावरण, सामाजिक सोच व रहन सहन का चित्रण करते हुए आपने अपने-हमारे मन के भावों को बहुत ही खूबसूरती से उकेरा है | आप का बनाया चित्र स्पष्ट नजर आ रहा है |

    उत्तर देंहटाएं
  20. nice कृपया comments देकर और follow करके सभी का होसला बदाए..

    उत्तर देंहटाएं