शुक्रवार, 18 मार्च 2011

प्रिये ! रंग देना इस होली


बनियान
जिसमे हो गए हैं
असंख्य छेद
पीठ पर उगे
समय के  काँटों से
उलझ कर,
रंग देना उसे प्रिये
इस होली
लाल रंग में 


लहराते झंडे की तरह लाल
 . 



कमर से 
बंधी है जो 
घुटने तक धोती 
कभी रही होगी 
धवल सफ़ेद 
समय के खिलाफ 
मिटटी से लड़कर 
आज मटमैली हो गई  है 
रंग देना प्रिये 
इस होली 
हरे रंग में 

लहलहाते खेतों की तरह हरी
३. 

पैरों में 
टायर की काली चप्पल 
जो पड़ी है सालों से 
घिसने लगी है अब 
कोलतार वाली सडको पर
चल कर 
रंग देना प्रिये 
इस होली 
सुनहरे रंग में 

रोशनी से सुनहरे रंग में 

४.

कंधे पर 
रखा है जो अंगोछा 
सोख सोख कर पसीना 
हो गया है 
उसी के रंग सा बदरंग 
रंग देना प्रिये 
इस होली 
गहरे नीले रंग में 

आसमान सा नीला जो टिका रहे कन्धों पर 

५.

चेहरे पर
उग आयी हैं
पगडंडियाँ
मानो हर रोज़
इस रास्ते गया हो कोई 

अनजान लक्ष्य की तरफ
फिर लौट कर न आया हो
इन्हें भर देना प्रिये
मुट्ठी भर गुलाल से
इस होली


समय जैसे भर देता है सारे घाव

६ . 

आँखों में
ठहरी हुई है
एक नदी
अरसे से
गंदला हो गया है पानी
रुकने से
घोल देना इसमें प्रिये
बहते हुए पानी का रंग
इस होली 

कि  फिर कोई और नदी ठहरे नहीं. 

26 टिप्‍पणियां:

  1. अरुण जी इस विचारोत्तेजक कविता पर अपनी विस्तृत राय तो बाद में दूंगा, हो सका तो आंच पर। अभी तो मुनव्वर राणा का एक शे’र याद आ गया

    किसी के पास आते हैं तो दरिया सूख जाते हैं
    किसी की एड़ियों से रेत में चश्मा निकलता है।
    फजा़ में घोल दी है नफ़रतें अहले सियासत ने
    मगर पानी कुंए से आज तक मीठा निकलता है। -- मुनव्वर राना

    उत्तर देंहटाएं
  2. टिप्‍पणियों से सतरंगी हुई, इन्‍द्रधनुषी होली.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद.
    मगर कभी मत भूलना,नाम भक्त प्रहलाद.

    होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. होली सब बह जाने का नाम है, बह जाने दें सब कुछ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  6. हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद.
    मगर कभी मत भूलना,नाम भक्त प्रहलाद.
    होली की हार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  7. आँखों में
    ठहरी हुई है
    एक नदी
    अरसे से
    मटमैला हो गया है पानी
    रुकने से
    घोल देना इसमें प्रिये
    बहते हुए पानी का रंग
    इस होली

    कि फिर कोई और नदी ठहरे नहीं. .. bahut badhiyaa , mann ko moh liya in panktiyon ne , holi ki shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुभानाल्लाह.....मेरा सलाम आपको इस पोस्ट के लिए......मार्मिकता में लिपटा सच कितने करीने से आपने रंगों में डुबो दिया है.....वाह

    उत्तर देंहटाएं
  9. होली पर आपको सपरिवार शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपको और समस्त परिवार को होली की हार्दिक बधाई और मंगल कामनाएँ ....

    उत्तर देंहटाएं
  12. नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 22 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  14. आँखों की ठहरी नदी में घोलना पानी इस तरह की फिर कोई नदी ठहरे नहीं ...
    घुल जाए सभी रंग ...शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह अरुण जी... बहुत ही कमाल का लिखा है... बेहतरीन!

    उत्तर देंहटाएं
  16. छेद वाली बनियान
    मटमैली धोती
    और कंधे पर रखे अँगोछे से बहुत ही सलीके से सजाई है आपने ये रचना| बधाई अरुण चंद्र रॉय जी|

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या कहूं अरुण जी………………निशब्द कर दिया………………अभी तो पढने के बाद इस सोच मे हूँ कि कहूँ क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  18. गहराई युक्त रचना के लिये साधुवाद
    मनोभावों को भी रंगना होगा

    उत्तर देंहटाएं
  19. AAM ADMI KI HOLI TO YAHI HAI. ZAMEEN SE JUDI RACHNA KE SABHI KHAND BEJOD HAIN.

    KALAM YAHIN SARTHAK HOTI HAI.

    BAHUT-BAHUT AABHAR.

    उत्तर देंहटाएं
  20. ek aam aadmi k man ki soch to yahi hogi ki kash koi holi aisi bhi ho jo apne rang me sare gareebi ke rango par haavi ho jaye. bahut sunder soch aur ek sashakt rachna par badhayi.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बेहद मासूम सी अभिलाषा व्यक्त करती कविता....
    एक ही शब्द ..आमीन !!!
    सबके जीवन में ऐसे रंग बिखरे...कि जीवन का रंग इन्द्रधनुषी हो जाए

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपने ऐसा रंगा अपनी कविता के रंग में कि होली की याद ताजा हो गयी.तो फिर से एक बार और होली की शुभ कमाना.

    उत्तर देंहटाएं