बुधवार, 22 सितंबर 2021

एकांत में वार्तालाप

अमेरिकन ब्लैक कवयित्री हेरियट मुलेन की कविता - Conversation In Isolation का अनुवाद 


एकांत में वार्तालाप

अनुवाद : अरुण चंद्र राय

 

 

मेरे पड़ोसी

लगा रहे हैं आँगन में दीवार

बाँट रहे हैं आँगन

मजबूत हो रही है हमारे बीच

यह दीवार ।

 

मैं आधा आँगन चलता हूँ

तभी मुझे एहसास होता है कि

भूल गया हूँ मास्क पहनना

 

मेरे सामने चींटियाँ

चल रही हैं एक दूसरे के पीछे

हम सभी चले जा रहे हैं कहीं

करते हुये भरोसा

 

मेरी खिड़की के बाहर

दो खंभों के बीच टंगी अलगनी पर

सुस्ता रही है एक गौरैया ।

 

पगडंडी पर गिरे पड़े हैं

पके हुये नींबू

जिन्हें बीनना है मुझे

झाल-मूरी बनाने के लिए ।

 

नीली हवाओं के

हल्के छूअन से अधिक

कुछ भी नहीं कोई भी नहीं

स्पंदित करता है मुझे । 

गुरुवार, 16 सितंबर 2021

ईश्वर के प्रांगण में


ईश्वर के प्रांगण में 

प्रस्तरों पर उत्कीर्ण मुद्राओं को बताते हुए

मार्गदर्शक ने बताया कि

जब यह मंदिर नहीं था यहां

जब स्वयं ईश्वर भूमि से प्रकट नहीं हुए थे 

उससे भी पहले मौजूद था

वह वृक्ष और सरोवर।


वह आह्लादित होकर

बता रहा था ईश्वर की महिमा

भाव विभोर होकर बताया कि

किस तरह इस वृक्ष पर 

धागा बांधने से पूरी हुई मनोकामना 


मैने कहा 

है मार्गदर्शक ! 

ठीक पहचाना आपने 

ईश्वर यही वृक्ष और सरोवर तो है

जो पूरी करते हैं कामनाएं,

उसके बोलने का प्रवाह रुक गया

वह एक पल को सोचा और 

हां में सिर हिलाते हुए उसकी आंखें चमक उठीं

जैसे निर्वाण प्राप्त हो गया हो उसे

वह वृक्ष के आगे हाथ जोड़ कर खड़ा हुआ और 

सरोवर में कूद गया।

- अरुण चंद्र राय

मंगलवार, 14 सितंबर 2021

सैन्य छावनी से

 हम आधुनिक लोग हैं 

हमारे पास है दुनियां भर का ज्ञान

विज्ञान और तकनीक 

बन चुकी हैं हमारी दासियां 

हमारे पास सब जानकारियां मौजूद हैं 

राजा से प्रजा तक की, कि

कौन कब उठता है, नहाता है, 

कब खाता पीता है, क्या खाता पीता है 

कैसे कपड़े पहनता है 

जाति मूल धर्म और आस्था तक की गणना 

कर ली हमने ।


हम क्षमता रखते हैं

 एक दूसरे के व्यवहार और निर्णयों को प्रभावित करने  की

 उन्हें अपने हितों के अनुसार उपयोग और उपभोग करने की 

हम हिंसा में विश्वास नहीं करते -- ऐसा कहते कहते 

हमने हथिया लिए सब पहाड़, नदी, जंगल 

और प्रयोग कर लिए इतिहास से सबसे खतरनाक हथियार 

जिसके हथियार जितने खतरनाक हैं 

वह उतना ही बौद्धिक और शक्तिशाली माना जायेगा 

हमने निर्धारित कर दिए ऐसे नियम। 

कहने को तो और भी बातें हैं किंतु 

संक्षेप में समझें इसे, अंत में 

हम बेचते हैं युद्ध और 

खरीदते हैं शांति,

इसे आप तब तक नहीं समझेंगे जब तक आप 

दो दिन गुजार न लें किसी सैन्य छावनी में। 











सोमवार, 13 सितंबर 2021

हिंदी :कुछ क्षणिकाएं

 हिंदी दिवस के अवसर पर कुछ कविताएं 


हिंदी : कुछ क्षणिकाएं

रौशनी जहाँ

पहुंची नहीं

वहां की आवाज़ हो

भाषा से

कुछ अधिक हो

तुम हिंदी

खेत खलिहान में

जो गुनगुनाती हैं फसलें

पोखरों में जो नहाती हैं भैसें

ऐसे जीवन का तुम संगीत हो

भाषा से

कुछ अधिक हो

तुम हिंदी

बहरी जब

हो जाती है सत्ता

उसे जगाने का तुम

मूल मंत्र हो

भाषा से

कुछ अधिक हो

तुम हिंदी.

४ 


तुम मेरे लिए

मैथिली, अंगिका, बज्जिका

मगही, भोजपुरी

सब हो .

शनिवार, 11 सितंबर 2021

पेरू की चर्चित कवियत्री विक्टोरिया ग्युरेरो की कविता - एनएन 3

 पेरू की चर्चित कवियत्री विक्टोरिया ग्युरेरो की कविता - एनएन 3

अनुवाद : अरुण चन्द्र राय


बोलो?
क्या कविता बोलेगी, उठाएगी प्रश्न?

मैं चिल्लाना चाहती हूँ
मेरा गला सूख गया है
मेरा गला, अरसे से है खामोश, रूंध गया है

किताबों में मुझे वह शब्द दिखाई देता है 
जिसका मैं उच्चारण नहीं कर सकती
अपने दोस्तों के सामने 
मुझे छिपना पड़ता है 
महिलाओं के शौचालय में।

(मेरी मां फैक्ट्रियों में सिलाई का काम करती थी
युद्ध के बाद वह पांच बच्चों के साथ विधवा हो गई थी)
क्या कविता बोलेगी, उठाएगी प्रश्न?

आइए आपको उन बिजलियों के बारे में बताती हूं
जो मेरी छाती में कड़क रहीं हैं 
उन बादलों के बारे में भी बताती हूं जिनके साथ
तैर रहे हैं मेरे सपने और 
इन सपनों के धागे अटके रहते हैं मेरी गर्दन से ।  

मशीनों के शोर से बनी फैक्ट्रियां
गूंगी महिलाओं से बनी फैक्ट्रियां
भठ्ठियों से बनी फैक्ट्रियां

सूरज के निकलने से लेकर 
काम से घर लौटने तक  
मेरे जेहन में ये शब्द तपते रहते हैं कि
क्या कविता मेरे प्रश्न उठाएगी
यदि उठाएगी तो उसके शब्द क्या होंगें?
क्या कविता मेरी मां का दुख भी बोलेगी?