शनिवार, 27 नवंबर 2010

फ़्लाइओवर के नीचे

तमाम शहर में
अब  फ़्लाइओवर  हैं
हमारे शहर में भी है 
एक फ़्लाइओवेर

फ़्लाइओवर के नीचे
होती है एक अलग दुनिया
शहर के बाहरी आवरण से अलग 
होती है उसकी प्रकृति 
उसका चरित्र 

सभी प्रकार के गुप्त रोगों के 
शर्तिया इलाज करने वाले कई डाक्टर 
एक का दो, दो का चार वाले खेल 
सस्ते देह का सस्ता बाज़ार 
होता है गुलजार यहाँ 
चौबीस घंटे 
कभी दिन के उजाले में 
तो कभी सांझ के धुधंल्के में 
और कभी पीले हलोज़न की पीली रौशनी में 

बनती हैं योजनायें 
शहर में शांति की
शहर में अशांति की
जो होते हैं अखबारों की सुर्ख़ियों में
अक्सर रात को 
'डील' करते पाए जाते हैं यहाँ, 
तनाव में जब होता है शहर 
उत्सव होता है 
इस फ़्लाइओवर के नीचे

शहर का असली चरित्र /असली परिचय 
होता है फ़्लाइओवर 
और उसके नीचे की दुनिया 

33 टिप्‍पणियां:

  1. बनती हैं योजनायें
    शहर में शांति की
    शहर में अशांति की
    जो होते हैं अखबारों की सुर्ख़ियों में
    अक्सर रात को
    'डील' करते पाए जाते हैं यहाँ,
    तनाव में जब होता है शहर
    उत्सव होता है
    इस फ़्लाइओवर के नीचे

    शहर का असली चरित्र /असली परिचय
    होता है फ़्लाइओवर
    ...........
    जिसके नीचे से भविष्य की जानलेवा योजनायें निकलती हैं ,
    बहुत सही चित्रण

    उत्तर देंहटाएं
  2. शहर का असली चरित्र /असली परिचय
    होता है फ़्लाइओवर
    और उसके नीचे की दुनिया
    बिलकुल सही बिम्ब है असली दुनिया का चेहरा देखने के लिये। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी कविता। हां यहां, दो दिल भी मिलते हैं, कुछ लोग घर भी बना लेते हैं, और सड़क की भीड़-भाड़ भी कम होकर यातायात रफ़्तार पकड़ लेती है। कभी गिर कर कुछ लोगों को लील भी जाता है तो कभी कुछ लोगों की जेबें भी भर जाता है।
    अपार महिमा वाले फ़्लाइ ओवर की तरह आपके काव्य का संसार भी बढता रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सड़कों पर दौड़ती भागती दुनिया एक रूप फ़्लाईओवर के तले भी है इसपर खूब ध्‍यान आकर्षित किया आपने। मैं तो कहूँगा कि:
    नित गुजरता हूँ यहॉं से, पर कभी सोचा न था
    एक दुनिया पल रही है फ़्लाईओवर के तले।

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बनती हैं योजनायें
    शहर में शांति की
    शहर में अशांति की
    जो होते हैं अखबारों की सुर्ख़ियों में
    अक्सर रात को
    'डील' करते पाए जाते हैं यहाँ,
    तनाव में जब होता है शहर
    उत्सव होता है
    इस फ़्लाइओवर के नीचे...

    फ्लाईओवर के नीचे बसी दुनिया का बहुत ही अध्यनपूर्ण और वास्तविक चित्रण...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (29/11/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. शहरी ज़िन्दगी को आईना दिखा दिया...........देखा था अनेक बार और सोचती भी थी मगर आपने मेरे भावों को अपनी अभिव्यक्ति दे दी…………आभार्।

    उत्तर देंहटाएं
  9. शहर का असली चरित्र /असली परिचय
    होता है फ़्लाइओवर
    और उसके नीचे की दुनिया

    ye to bahut sahi baat kahi apne

    उत्तर देंहटाएं
  10. जो होते हैं अखबारों की सुर्ख़ियों में
    अक्सर रात को
    'डील' करते पाए जाते हैं यहाँ,
    तनाव में जब होता है शहर
    उत्सव होता है
    इस फ़्लाइओवर के नीचे

    उत्तर देंहटाएं
  11. फ्लाईओवर के नीचे बसी ज़िंदगी का सजीव चित्रण ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. अरुण जी आप फ्लाई ओवर के नीचे वाली बस्ती छोड़ कर कब आये ??????इनमे से किस किस में भागीदारी थी आपकी ?????? वास्तविक चित्रण...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह... आपने तो "flyover" के मायने ही बदल दिए... मनो जैसे वो एक परत हो जो एक ताल को दूसरे ताल से अलग करती हो... बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  14. तनाव में जब होता है शहर
    उत्सव होता है
    इस फ़्लाइओवर के नीचे

    फ्लाइओवर के नीचे की दुनिया की सच्ची तस्वीर खींची है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सही कह रहे हो भाई ! शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बेबाकी से अपनी बात कह्जाते हो.तेवर बड़े गहरी तक असर करने वाले लगते हैं. भाई जान ये फ्लाई ओवर के निचे वक्त बिताने वालों को कविता हाथ लगे तब ना. असरकारक हो पायेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  17. अरुण जी,
    आपकी यह कविता दिमाग़ के ओवर से फ्लाई नहीं कर सकती, बल्कि विचारों का एक ऐसा सेतु निर्मित करती है, जो स्याह और सफेद दुनिया के बीच सम्बंध स्थापित करता है. इन सम्बंधों का जायज़ नाजायज़ होना सिर्फ कुछ रंगीन पत्तियों पर निर्भर करता है, जो बदलती हैं जेब… काले पॉकेट से निकलकर ख़ाकी जेब में जाती हुई इसी फ्लाइओवर के तले.
    शानदार दृष्टि!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. शहर का असली चरित्र /असली परिचय
    होता है फ़्लाइओवर
    शायद फ़्लाइओवर एक आवरण का काम करता है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. kya kahun, samajh nahi pa raha...aaap to apne charo aur ke jindagi ko itna sajeev chitran karte ho, jaise lagta hai ek dum se main kisi flyover ke niche pahuch gaya.........sach kaha ek dum!! bahut khub...........badhai!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. शहर का असली चरित्र /असली परिचय
    होता है फ़्लाइओवर ...

    Sateek ... shahar ka charitr likh daala aapne ... bahut prabhaavi rachna ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. kbhi kbhi kai cheeje nigaho ke samne se srk jati hai our hm us pr tvjjo nhi dete hai lekin vhi bat jb rchnakar ki nigah se dikhai deti hai to uska mrm smjh me aata hai .is jgh se kitni khaniyo ka jnm hota hai . bhut vistrit flk hai .drishti ki viratta ke liye dhnywaad our ek samyik kvita ke liye sadhuvad .

    उत्तर देंहटाएं
  22. शहर का असली चरित्र /असली परिचय
    होता है फ़्लाइओवर
    और उसके नीचे की दुनिया

    आपका अवलोकन तो कमाल है..... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  23. फ्लाई ओवर के नीचे पनपती बस्तियों में लिबलिबाती हुईं सच्चाइयों की सच्ची कहानी !
    अरुण जी ,बहुत अच्छा है !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  24. अरुण जी,
    फ्लाईओवर के नीचे बसी दुनिया का वास्तविक चित्रण.....बधाई
    ....... उम्दा रचना..बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  25. सच्चाई को बखूबी शब्दों में पिरोया है आपने! उम्दा रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  26. जो होते हैं अखबारों की सुर्ख़ियों में
    अक्सर रात को
    'डील' करते पाए जाते हैं यहाँ,
    Xxxx
    बिलकुल सच ....और यही लोग करते हैं बातें , विकास और विशवास की ......सम्यक रचना ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं