शनिवार, 11 जून 2011

छोडू राम का प्रेम पत्र

प्रिये
मैं छोडू राम
लिखना चाहता था
एक प्रेम पत्र
लेकिन
सदियों तक
अक्षर ज्ञान से
रहा जो वंचित
कैसे लिखता


कैसे कहता
तुम सबसे अच्छी तब लगती हो
जब पाथती हो उपले
उपले जब चूल्हे में जलते हैं
अंगारों से लाल तुम्हारा चेहरा
बड़ा दीप्त लगता है
अष्टमी की रात आरती के बाद
भगवती की तरह
अब कहता हूं
मैं तुम्हारा छोडू राम
जब छूट चुका है
गाँव, उपले
और चूल्हा

लिखना चाहता हूं  कि
जब मांगे थे तुमने
आम के नए टिकोले
मन हुआ था
दे दूं तुम्हे संसार
फिर लगा
मेरे संसार में है ही क्या
कर्जों का बोझ
कुचला हुआ मान सम्मान
आज फिर
मन कर रहा है
दे दूं तुम्हें
बस वही आम के टिकोले
खट्टे खट्टे
लेकिन वो दुनिया तो
पीछे छूट गई है


जब कच्चे बांस की
लपलपाती छड़ी से
उधेडी जाती थी
मेरी पीठ
मन करता था
जोर जोर से लूं
तुम्हारा नाम
लगता था
चोट का कम होगा असर
लिख देना चाहता हूँ
यह भ्रम भी

एक बात और कहूँ
कि मेरी माँ और तुम में
थी ढेर सारी समानताएं
मैं कभी तुमको बता नहीं पाया
क्योंकि लगता था
जब आओगी
मेरे आँगन तुम
खुद ही जान जाओगी
लेकिन तुम आई नहीं
सो मैंने लिख दिया है यहाँ
बुरा मत मानना

हाँ आज यह भी 

कहना चाहता हूँ कि 
मुझे बहुत बुरा लगा था 
उस दिन
जब मैंने अपने ऊपर 
पड़ने वाले चाबुक को
पकड़ लिया था और
मिला ली थी आँखें 
सदियों की दासता के विरुद्ध
लगा था मेरे कंधो से 
झूल जाओगी तुम
नहीं हुआ ऐसा
फिर मैं 
 भी भूल गया 
पहली बार रोया था
उस दिन ही
ना उस से पहले
ना उसके बाद

कभी जो
पढना मेरे प्रेम पत्र को
जरुर देना उत्तर
कहना कैसा लगा था उस दिन
जब पहली बार
हवा में लहराई थी
मेरी मुट्ठी जिसे बाद में
दिया गया था कुचल
जरुर लिखना 
अपने उत्तर में
किसे कहते हैं प्रेम  


(आदरणीय पाठक मित्र !
मेरी यह कविता वास्तव में मानवीय प्रेम और सामाजिक बदलाव के प्रति प्रेम की कविता है... समाज के बीच को खाई उपजी थी या हो है अब भी उस पर टिप्पणी करती कविता है... छोडू राम आज भी समाज के हाशिये पर.. आज भी व्यवस्था से आँखे मिलाने पर आंखे निकल ली जाती है... मुट्ठी भींचने पर कुछ दी जाती है मुट्ठी... काट ली जाती है उंगलियाँ ताकि कभी मुट्ठी बने ही ना.... कविता को इस सन्दर्भ में पढ़ें  तो  कविता सार्थक हो पायेगी... सादर)

23 टिप्‍पणियां:

  1. एक बात और कहूँ
    कि मेरी माँ और तुम में
    थी ढेर सारी समानताएं
    मैं कभी तुमको बता नहीं पाया
    क्योंकि लगता था
    जब आओगी
    मेरे आँगन तुम
    खुद ही जान जाओगी
    लेकिन तुम आई नहीं
    सो मैंने लिख दिया है यहाँ
    बुरा मत मानना

    प्यार का अलग ही रूप ......निश्छल प्रेम कि अनुभूति का एहसास करवा दिया आपने arun ......बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक बात और कहूँ
    कि मेरी माँ और तुम में
    थी ढेर सारी समानताएं
    मैं कभी तुमको बता नहीं पाया
    क्योंकि लगता था
    जब आओगी
    मेरे आँगन तुम
    खुद ही जान जाओगी
    लेकिन तुम आई नहीं
    सो मैंने लिख दिया है यहाँ
    बुरा मत मानना.........

    पवित्र प्रेम और सम्रर्पण की सुन्दर विवेचना..... बहुत सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  3. कैसे कहता
    तुम सबसे अच्छी तब लगती हो
    जब पाथती हो उपले
    उपले जब चूल्हे में जलते हैं
    अंगारों से लाल तुम्हारा चेहरा
    बड़ा दीप्त लगता है
    अष्टमी की रात आरती के बाद
    भगवती की तरह
    अब कहता हूं
    मैं तुम्हारा छोडू राम
    जब छूट चुका है
    गाँव, उपले
    और चूल्हा
    chaliye ab kaha to... bahut hi nishchhal prem

    उत्तर देंहटाएं
  4. लिखना चाहता हूं कि
    जब मांगे थे तुमने
    आम के नए टिकोले
    मन हुआ था
    दे दूं तुम्हे संसार
    Arun ji bahut sundarta ke sath prastut kiya hai ek hrdy ki tooti hui bhavnaon ko .aabhar .

    उत्तर देंहटाएं
  5. kya bat hai arun ji ,chhodoo ram kee sabhi abhivyaktiyan sangrahniy hoti hain fir ye kahe ke chhodun ram.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बस जो आपने प्रस्तुत किया है उसे ही कहते है प्रेम्…………सुन्दर भावाव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. kya baat hai choduram ki abhibyaktiyaan itani sambedansheel hoti hai ki dil bhar aata hai toote hue dil ke dard ko kitane anokhe dhang se ujaager kiya apni rachanaa ke maadhyam se .badhaai sweekaren.



    please visit my blog.thanks

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेम भी छोटी छोटी घटनाओं में अपार छिपा होता है, बस यह कविता पढ़ ले कोई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रेम पना चाहो तो यूँ ही छोटी छोटी चीज़ों में मिल जाता है.
    सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बदल रहे समय का स्पष्ट प्रभाव प्रेम की अवधारणा पर देखने को मिलता है। एक ओर जहां नैतिकताओं और मर्यादाओं से लुकाछिपी है तो दूसरी ओर स्वच्छंदताओं के लिए नया संसार बनाने का प्रयास है।
    आपकी इस कविता में प्रेम है तो सिर्फ़ घटना बनकर नहीं है। परिवर्तन की बात है तो वह सिर्फ़ रस्मी जोश तक महदूद नहीं है। ये सब कुछ आपकी कविता में बुनियादी सवालों से टकराते हुए है।
    आपकी लेखनी से जो निकलता है वह दिल और दिमाग के बीच रस्साकसी पैदा करता है।
    आपकी बेहतरीन रचनाओं में से एक।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सामाजिक सरोकारों, बदलती परिस्थितियाँ और मानवीय मूल्यों के साथ प्रेम की जुगलबंदी एक अत्यंत दुर्लभ समीकरण है. हृदयस्पर्शी रचना, मार्मिक परन्तु सच की आवाज.

    सुंदर रचना के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. Arun Chandra Roy ji,
    Wow! You are a wonderful writer and so inspiring and encouraging!
    Have a blessed and wonderful day!

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (13-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर ..भावपूर्ण कविता

    उत्तर देंहटाएं
  15. कैसे कहता
    तुम सबसे अच्छी तब लगती हो
    जब पाथती हो उपले
    उपले जब चूल्हे में जलते हैं
    अंगारों से लाल तुम्हारा चेहरा
    बड़ा दीप्त लगता है
    अष्टमी की रात आरती के बाद
    भगवती की तरह
    अब कहता हूं
    मैं तुम्हारा छोडू राम
    जब छूट चुका है
    गाँव, उपले
    और चूल्हा

    लिखना चाहता हूं कि
    जब मांगे थे तुमने
    आम के नए टिकोले
    मन हुआ था
    दे दूं तुम्हे संसार
    फिर लगा
    मेरे संसार में है ही क्या
    कर्जों का बोझ
    कुचला हुआ मान सम्मान
    आज फिर
    मन कर रहा है
    दे दूं तुम्हें
    बस वही आम के टिकोले
    खट्टे खट्टे
    लेकिन वो दुनिया तो
    पीछे छूट गई है

    अनुपम... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत खूब ... प्यार के अन्छुवे पहलू को छुवा है आपने ... बहुत कमाल के शब्द हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. कितने कोमल अहसास..प्रेम को एक नयी अभिव्यक्ति दी है आपके शब्दों ने..बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  18. is bhaav ki kavitaayein pehli baar padhi hai aapne blog par ..man moh liyaa

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत बारीकी और महीनता से दर्शन कायें हैं...अद्भुत व्याख्या....कहाँ न मिल जाये प्रेम...वाह!! बेहतरीन रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर पवित्र रचना

    उत्तर देंहटाएं