बुधवार, 7 अप्रैल 2010

कविता

कविता
मात्र शब्दों का विम्ब नहीं

यथार्थ के धरातल पर
उछली गई वह गेंद है
जो बार बार टकरा कर
प्रश्नों से
बिखरी हुई है चारो ओर

कविता
पूछती है
अर्थ
आदमी के आदमी होने का
और तमतमाए चेहरे से
भयभीत नहीं है यह

तुम्हारा भ्रम है कि
कविता गोसिप है
या टूटे दिलो के अवसादों पर
चढ़ाई जाने वाली लेप है यह।

मना कि
कविता क्रांति नहीं है
लेकिन तैयार करती है
क्रांति के लिए
उपयुक्त और पर्याप्त जमीन
और बोली है यह
भविष्य की जो
तुम्हे दिख नहीं रही

कविता
किसी बाला के उलझे बालो को
सुलझाने वाली गीत भी नहीं है
या उसकी गहरी नीली आँखों के रास्ते
दिल तक उतरने का साधन भी नहीं

कविता
कर्ण की वोह मंत्र शक्ति है
जो भूलता जा रहा है वह
परुशराम के शाप से
ए़क और महाभारत के युद्ध में

कविता
तुम्हारी धमनियों में
मूल्यों को प्रवाहित करने का
एकमात्र अस्त्र है
जिसके आभाव में
चेहरों पर
उग आयी है कई कई परते
और उगते आ रहे हैं
आँखों में लम्बे लम्बे नाखून

कविता
बड़े बड़े सभागारों में
चाय काफी की चुस्कियों के साथ
बहस का विषय भी नहीं है
या फिर
किसी पीली पत्रिका में
पूरी रंगीनियत के साथ
खुदे कुछ शब्द।

इन सबसे ऊपर
कविता वह फर्क है
जिससे तुम्हारी नजरे
नहीं ढूंढ पा रही
जैसे
मिटटी
पानी
हवा
रंग
आग
आकाश
मैं
माँ
तुम
और तुम भी

कविता की
यह अबाध सीमा है
फिर भी
कैद नहीं है
कविता

9 टिप्‍पणियां:

  1. कविता की
    यह अबाध सीमा है
    फिर भी
    कैद नहीं है
    कविता .sunder, ati sunder.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं
    माँ
    तुम
    और तुम भी
    bahut sundar

    http://kavyawani.blogspot.com/

    shekhar kumawat

    उत्तर देंहटाएं
  3. अति सुन्दर!
    शब्दों को कैसे अर्थ निकालने के लिए मजबूर कर दिया है आपने!
    "कविता की एक पूर्ण परिभाषा"
    वास्तविकता में ही बहुत बढ़िया रचना.....
    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  4. kin shabdo mein tarif karoon.........kavita kya hoti hai , uska marm kya hai ............bakhubi bayan kar diya.............gazab ki prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब...मौलिक सोच...कविता का नया अंदाज सोचने को प्रेरित करता है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कविता
    मात्र शब्दों का विम्ब नहीं
    कविता
    कर्ण की मंत्र शक्ति है
    aur isi shakti ko yaad rakhna hai

    उत्तर देंहटाएं
  7. गज़ब की जादूगरी शब्दों से !!!!!!!!!!!!!वाह.. वाह वाह अब और क्या कहूँ कमाल की छटा बिखेरी है नायाब,लाजवाब.
    सबसे अच्छी बात तो ये है कि
    "तुम्हारा भ्रम है कि
    कविता गोसिप है
    या टूटे दिलो के अवसादों पर
    चढ़ाई जाने वाली लेप है यह।"
    सबको ऐसा ही लगता है कि कविता लिखने वाले सब दुखी आत्मा,प्रताड़ित अवसाद से घिरे या फिर टूटा हुआ दिल ले के घूमते हैं जब कि सत्य इस कविता ने उजागर किया है
    "इन सबसे ऊपर
    कविता वह फर्क है
    जिससे तुम्हारी नजरे
    नहीं ढूंढ पा रही
    जैसे
    मिटटी
    पानी
    हवा
    रंग
    आग
    आकाश
    मैं
    माँ
    तुम
    और तुम भी

    कविता की
    यह अबाध सीमा है
    फिर भी
    कैद नहीं है
    कविता"

    उत्तर देंहटाएं
  8. कविता
    मात्र शब्दों का विम्ब नहीं.......

    कविता
    पूछती है
    अर्थ...........

    vyapak arth ko samete huye hai aapki kavita.. bahut sunder..........

    उत्तर देंहटाएं
  9. कविता क्रांति नहीं है
    लेकिन तैयार करती है
    क्रांति के लिए
    उपयुक्त और पर्याप्त जमीन

    bhaut umda rachna hai, aise lag raha hai , kavita ne sakar roop le kar apni vyatha gayi ho...

    उत्तर देंहटाएं