मंगलवार, 27 अप्रैल 2010

पर्स में रखी तुम्हारी तस्वीर

जब
थक जाती हैं
बाहें
खुद से दुगुना वजन
उठाते उठाते
और कंधे
मना कर देते हैं
देने को संबल
लेकिन फिर भी
जलते सूरज के नीचे
पूरी करनी होती है
दिहाड़ी ,
देख लेता हूँ
पर्स में रखी तुम्हारी
तुम्हारी तस्वीर


जब
भरी दुपहरी में
कंक्रीट के अजनबी शहर में
थक जाते हैं कदम
ढूंढते ढूंढते
नया पता
लेकिन
पहुचना जरुरी होता है
उस अधूरे पते पर,
देख लेता हूँ
पर्स में रखी
तुम्हारी तस्वीर



जब
थका हारा
तन सोना चाहता है
लेकिन
मन
रहना चाहता है
स्मृतियों में
जगे रहना
तुम्हारे साथ,
देख लेता हूँ
पर्स में रखी

तुम्हारी तस्वीर


तुम्हारी तस्वीर
के साथ होती है
तुम्हारी हंसी,
साथ देखे सपने,
और जरी वाली साड़ी
जो तुमने लाने को कहा था
छोड़ते समय गाँव

पर्स में रखी
तुम्हारी तस्वीर
है मेरी उर्जा
और इस अजनबी शहर में
अंतिम ठौर


बस
तुम्हारी तस्वीर
समझती है
अपनों के बीच दूरी
और
दर्द विस्थापन का

23 टिप्‍पणियां:

  1. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पर्स में रखी
    तुम्हारी तस्वीर
    है मेरी उर्जा
    और इस अजनबी शहर में
    अंतिम ठौर

    tasveerein waqt ko kaid karne karti hai waqt mano ruk jata hai aur jab jab mud kar in tasvero ko dekha jata hai to ek methe si muskan pani ke phuare si bhut padti hai...

    aur waise bhi purse mai rakhi tasweere aksar jaan se pyari hoti hai kyunki wo hari jaan ki hoti hai aksar... roop kuch bhi ho sakta hai... kisi mehbuba ki... mata pita ki... ya phir apne masum bachon ki...kuch bhi...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर भावों को बखूबी शब्द जिस खूबसूरती से तराशा है। काबिले तारीफ है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पर्स में रखी
    तुम्हारी तस्वीर
    है मेरी उर्जा
    और इस अजनबी शहर में
    अंतिम ठौर

    वाह अरुण जी वाह...इस लाजवाब रचना की प्रशंशा के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं...बधाई स्वीकार करें...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. बस
    तुम्हारी तस्वीर
    समझती है
    अपनों के बीच दूरी
    और
    दर्द विस्थापन का

    खूबसूरती से कही बात
    लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  6. हां किसी का साथ बहुत बड़ा सम्बल होता है. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरे भाई अगर साड़ी लाने की बात नहीं होती तो ये तस्‍वीर सांई बाबा का प्रभाव पैदा कर रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. कपूर साहब ने जो कहा मुझे ऐसा कतई नहीं लगा - सुंदर रचना के लिए निश्चित रूप से आप बधाई के पत्र हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब ... उनकी तस्वीर भी दावा का काम करती है .... आपकी कल्पना लाजवाब है ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर सहज कविता .मन से निकली और कागज पर कविता का आकार ले लिया अरुण ऐसी ही कविता मन को छू जाती है .

    उत्तर देंहटाएं
  11. ek tasveer se itna lagaav hjai to us vyakti se kitna hoga...bahut khoob

    http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  12. और तब यही तस्वीर जीने का संबल बनती जाती है ........

    उत्तर देंहटाएं
  13. बस
    तुम्हारी तस्वीर
    समझती है
    अपनों के बीच दूरी
    और
    दर्द विस्थापन का

    madhur aur dil me utarti abhivyakti

    उत्तर देंहटाएं
  14. पर्स में रखी
    तुम्हारी तस्वीर
    है मेरी उर्जा
    और इस अजनबी शहर में
    अंतिम ठौर
    अच्छी है पर्स में रखी वो तस्वीर भी और तस्वीर से मिलती उर्जा भी
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. अरुण जी ! आपके लेखन मे इतनी गहन एंद्रिकता है की बस पढ़ते वक्त सिर्फ वह तस्वीर होती है या फिर पढ़ने वाला होता है ....हार्दिक बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  16. तुम्हारी तस्वीर
    समझती है
    अपनों के बीच दूरी

    bahuuuuuuuuuuuut khoooooob ....
    hame jeene ke liye energy kaha kaha se milti hai ....kitne chote pal,sade paper per bani tasveer.
    aur prakriti ke jaane kitne raaj......waaaaaah

    उत्तर देंहटाएं
  17. arunji aapki kavita me jo ehsas spandan karta hai usse har shabd jeevant ban jata hai.in ehasaso ko mahsusne ke bad shabd nahi hai in aur kuchh kahne ke liye.pata nahi kitane hi honge jo in ehsaso me hi jeevan ki urja pate honge par is urja ko shabdo ka jama aap hi pahana pate hai.bahut badhai!!!!!!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं