बुधवार, 5 मई 2010

चाय

१.
चाय
अदरक वाली हो
या सौफ वाली
डाली हो उसमे
तुलसी की पत्तियां
खुशबू तो उसमे
होती है
तुम्हारे हाथों की


२.
चाय
सुबह की हो
ढलते शाम की
या फिर हो
देर रात की
समाया होता है
उसमे
तेरा अपनापन

३.
चाय
किचेन में हो
बालकोनी में हो
या हो बेडरूम में
मीठी तो होती है
वह
तुम्हारे एहसास से

12 टिप्‍पणियां:

  1. गरम चाय की प्याली.... मज़ा आ गया

    चाय
    अदरक वाली हो
    या सौफ वाली
    डाली हो उसमे
    तुलसी की पत्तियां
    खुशबू तो उसमे
    होती है
    तुम्हारे हाथों की

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस गरम चाय की प्याली को देख कर मनो ताजगी छा गई है

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे तो चाय पीना बेहद पसंद है और भी पीने का मन कर रहा है!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सामने चाय का कप है ,,,,
    उठती सोधी खुसबू,,,,
    गमकती अधरंगी चाय,,,
    तुम भी हो मगर ,,,,
    स्म्रतियो के पल में अहसास बन कर ,,,,
    चाय के हर घूंट के साथ उघाड़ता हूँ ,,,,
    तुमरे सानिध्य के हर पुराने पल को

    उत्तर देंहटाएं
  5. खुशबू तो उसमे
    होती है
    तुम्हारे हाथों की

    chai to ek bas ek bahana hai, chahat to bus tumhare sang kuch waqt bitana hai...

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह क्या बात है !!!!!!! चाय बिल्कुल कडक ........

    उत्तर देंहटाएं
  7. चाय .. वाह आपने तो पीने का मज़ा दुगना कर दिया ... बहुत ही लाजवाब ........

    उत्तर देंहटाएं
  8. खुशबू तो उसमे
    होती है
    तुम्हारे हाथों की
    किसी की खुशबू नहीं है जनाब यह तो आपके एहसासों की खुशबू है
    बहुत खूब --- बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  9. बुधवार, ५ मई २०१०
    चाय

    १.
    चाय
    अदरक वाली हो
    या सौफ वाली
    डाली हो उसमे
    तुलसी की पत्तियां
    खुशबू तो उसमे
    होती है
    तुम्हारे हाथों की



    २.
    चाय
    सुबह की हो
    ढलते शाम की
    या फिर हो
    देर रात की
    समाया होता है
    उसमे
    तेरा अपनापन

    kya baat hai. garam mausam may apnaiypan ki chai kaa swad ab jaanaa

    उत्तर देंहटाएं
  10. समाया होता है
    उसमे
    तेरा अपनापन
    bahut gahare ahsas hai aapki baton me .

    उत्तर देंहटाएं
  11. भई चाय तो अच्छी रही मीठी भी बहुत है पर ज्यादा चाय पीना सेहत के लिए हानिकारक होता है और इस गर्मी में बार बार बनाने वाले के लिए कष्ट दायक भी होता है केवल अपना मज़ा ही देख रहे हो!!!! बहुत स्वार्थी होते जा रहे हो दिन पर दिन !!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं