बुधवार, 8 सितंबर 2010

साक्षर कर दो

अक्षर
मिलकर
बनाते हैं
शब्द,

जबकि
नहीं होता
अक्षरों का
अपना कोई अर्थ
लेकिन
मिलकर देते हैं
शब्द को
अर्थ
आयाम
अभिव्यक्ति

जानने के लिए
शब्दों के अर्थ
आवश्यक नहीं होता है
अक्षर ज्ञान
कुछ अनुभव जन्य होते हैं
कुछ तो बस
महसूस भर किये जाते हैं

साक्षर
हो रहा है देश
पर कहाँ हो रहा है
स्वर मुखर उस अनुपात में
खो रहे हैं
शब्दों से सन्दर्भ
जितना बढ़ रहा है
हमारा अक्षर ज्ञान

दूसरी ओर
बिना उच्चारित किये
सब कुछ कह जाती हो तुम,
लिखने के बाद भी बहुत कुछ
अधूरी रह जाती है
मेरे मन की बात

बस
ढाई आखर का
देकर ज्ञान
थोडा मुझे भी
साक्षर कर दो !

14 टिप्‍पणियां:

  1. जानने के लिए
    शब्दों के अर्थ
    आवश्यक नहीं होता है
    अक्षर ज्ञान
    कुछ अनुभव जन्य होते हैं
    कुछ तो बस
    महसूस भर किये जाते हैं
    ... bahut badee baat kahi hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. शब्‍द अपना अर्थ तब देंते हैं जब हम उनका उचित तरीके से उपयोग करते हैं। इसके लिए चिंतन,मनन और धैर्य की जरुरत है। फिर चाहे वह कविता हो,कहानी हो या अन्‍य कोई विधा या मौखिक संवाद। और कविता में शब्‍दों का उपयोग करने के मामले में तो हमें कंजूस होना चाहिए। कंजूस की तरह सोच सोच कर उन्‍हें खर्च करना चाहिए। साक्षर होने का अर्थ पढ़ना-लिखना आना भर नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पढ़ें....शब्‍द अपना अर्थ तब देते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जबकि
    नहीं होता
    अक्षरों का
    अपना कोई अर्थ
    लेकिन
    मिलकर देते हैं
    शब्द को
    अर्थ
    आयाम
    अभिव्यक्ति ...
    बहुत खूब ... षाडबों की महिमा अपरंपार है ... पर जैसा की आपने कहा ढाई आखर का ज्ञान इस दुनिया में बहुत है ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह्……………जिसने प्रेम का पाठ पढ लिया समझिये साक्षर हो गया………………सबसे कठिन तो इसी के शब्द को समझना है और फिर उसके अर्थ को………………गूढ अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. गहराई से लिखी गयी एक सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बस
    ढाई आखर का
    देकर ज्ञान
    थोडा मुझे भी
    साक्षर कर दो !

    -बहुत ऊँची बात कही आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बस
    ढाई आखर का
    देकर ज्ञान
    थोडा मुझे भी
    साक्षर कर दो
    गूढ अभिव्यक्ति, सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. ढाई आखर का
    देकर ज्ञान
    थोडा मुझे भी
    साक्षर कर दोyahi dhai aakhr ka gyan hi to sab shabdo ki dhoori hai....bahut sajeev bhavnayee..

    उत्तर देंहटाएं
  10. लिखने के बाद भी बहुत कुछ
    अधूरी रह जाती है
    मेरे मन की बात

    hum roz hi tu aisa hota hai ......koi bahut bahut kuch kahta hai ...lakin baad mein aisa dikta hai ki vo tu usne kaha hi nahi jo kahna chahta tha.....??

    ati sunder

    उत्तर देंहटाएं
  11. साक्षारता ही वह प्रकाश-पुंज है, जो दुनिया के करोड़ों लोगों को अज्ञानता के अंधियारे से निकालकर उनके जीवन में ज्ञान का उजाला फैला सकता है।

    उत्तर देंहटाएं