सोमवार, 13 सितंबर 2010

रविवार

अलसाई सुबह
नरम धूप
मोटा सा अखबार
ख़बरों पर चाय

और
इन सब के बीच
तुम्हारी हंसी
खनकती
चाय के प्याले में,
फुसफुसाती
अखबार के पन्नो में ,
गुनगुनाती
धूप के साथ



रविवार का होना
इस तरह
ए़क अनुभव है
तुम्हें जीने का
हर हफ्ते ।

16 टिप्‍पणियां:

  1. gungunati dhup me ravivar ka hona, ek jaandaar anubhav na.......:)

    kya kabiletarif soch hai aapki.......ameen!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस तरह
    ए़क अनुभव है
    तुम्हें जीने का
    हर हफ्ते ..


    बहुत खूब ... प्रेम का मधुर एहसास जग्मत्ाता रहता है आपकी लाइनों में ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरुण जी, आपका अनुभव आपकी अभिव्यक्ति में प्रकट होकर यह बता रहा है कि किसी आनंद का अनुभव इतना सुखद नहीं होता, जितना उसका स्मरण।

    बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    शैशव, “मनोज” पर, आचार्य परशुराम राय की कविता पढिए!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अलसाई सुबह
    की नरम धूप
    में मोटे से अखबार की खबरों
    के साथ गर्म चाय

    और
    इनके बीच
    चाय के प्याले में खनकती
    तुम्हारी हंसी

    फुसफुसाती
    अखबार के शब्दों में ,
    गुनगुनाती
    किरणों के संग

    ऐसे रविवार
    का आना इस तरह
    जैसे सदियों के बाद कोई
    कोई फूल खिला हो।
    (अरुण जी क्षमा सहित)

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूबसूरत एहसास .... सुन्दर अभिव्यक्ति ...कहने को बहुत कुछ पर मौन ही बेहतर है :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. उत्साही जी
    आप कविता कैसे लिखी जाये ,इस पर एक स्कूल क्यों नहीं खोल लेते .इस बार आपने जो संपादन किया है ,उसे देखने के बाद मेरी नम्र राय यही है .

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज के ब्यस्त जीबन में आदमी को खुद से मिलने के लिए रबिबार का इंतज़ार करना पड़ता है... मगर आज आपका कबिता पढने के बाद लगा कि हमलोग स्वार्थी हैं… इतवार को इन सबके बीच जीना उसको जीना भी तो है जो सायद पूरा हफ्ता इस एक दिन के लिए पलकों में गुजर दएता है..कोई उर्मिला के तरह!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. निर्मल जी सुझाव के लिए शुक्रिया। कोशिश तो यही कर रहा हूं। अब आपने घोषणा कर ही दी है तो कुछ विद्यार्थी भी आ जाएंगे,उम्‍मीद करता हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस तरह
    ए़क अनुभव है
    तुम्हें जीने का
    हर हफ्ते ..
    आज के समय में चलो कोई तो है जो खुले आम मक्खन लगा रहा है और स्वीकार भी कर रहा है फिर चाहें जलने वाले जला करें

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्रेम का प्रगटीकरण होना चाहिये फिर चाहे जैसे भी किया जाये ………………वैसे हर लम्हे को जीना इसे ही कहते हैं………………प्रेम की खूबसूरत अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  12. ravivar ke nam se kisi ki sukhad upasthiti ko jeena ravivar manae ka behtarin tareeka.....

    उत्तर देंहटाएं