बुधवार, 6 अक्तूबर 2010

दो रोटियों के सिंकने के बीच

बनाते हुए रोटियाँ
तुम ,
दो रोटियों के बीच
देखती हो स्वप्न



स्वप्न में उडती है
तितलियाँ रंग विरंगी,
आसमान में होता है
चाँद पूनम का, गोल
बिल्कुल रोटियों की तरह
लेकिन भूख मिटाने की बजाय
बढ़ा देता है
तुम्हारी प्यास
स्वप्न में .


जब तक
बेल रही होती हो
रोटियाँ
तुम्हारे भीतर
बह रही होती है
नदी ए़क
नदी में होती है
मछलिया, जिनकी आँखों में
होती है वही चमक
जो रहती हैं
तुम्हारी आँखों में
देख कर मुझे


तवे पर
डालते हुए ए़क रोटी
समानांतर
तुम सेंक रही होती हो
दूसरी रोटी भी
और
चल रहा होता है
तुम्हारे भीतर
द्वन्द ए़क
जिसमें
तुम ही तुम रहती हो
ए़क तुम्हारे भीतर का तुम
और ए़क तुम्हारे बाहर का


अपने कई चेहरे से
परेशान तुम भी
सिंकती सी लगती हो
तवे पर
भीतर और बाहर


दो रोटियों के बीच
तुम ढूंढ रही होती हो
स्वयं को
कभी मुस्कुराती सी
कभी खामोश


दो रोटियों के
सिंकने के बीच
तुम निभाती हो
कई भूमिकाएं

27 टिप्‍पणियां:

  1. नारी के मनोभावो का बहुत ही गहराई से विश्लेषण किया है………किन किन मोडों से गुजरती है एक नारी अपनी ज़िन्दगी मे उसे बहुत ही गहराई से महसूस किया है आपने…………………एक बेहतरीन सोच का परिचायक है ये कविता……………नारी ह्रदय की वेदना को स्वर दे दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दो रोटियों के सीकने के बीच स्त्री के मनोभावों को जाहिर करने की कोशिश ...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभी अभी वंदना गुप्ता की एक अकविता २ रोटियों पर ही पढकर आ रही हूँ ..पर वो ख्वाबों में खो गई थीं :) और आपने नारी मन के सारे भाव २ रोटियों में समेट दिए.
    बेहतरीन रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इसीलिये तो कहते हैं जहँ न पहुँचे रवि वहँ पहुँचे कवि।
    दो रोटियों के सिकने के बीच का अंतराल और उसमें समाये सोच के दायरे और उनमें रिश्‍ते, कवि की नज़र से देखें तब समझ आती है इस जग की विशालता।
    बहुत बढि़या कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी टिपण्णी में अकविता को "कविता " पढ़ा जाये .माफ कीजियेगा टाइपिंग मिस्टेक .

    उत्तर देंहटाएं
  6. अर्चना गंगवार जी ने ईमेल से कहा:


    arun ji
    aapki aaj ki rachna tu sahej ke rakhne ke layak hai......
    aapne kaise para ye sab .....kyoki man ke bheeter itni utal puthal ho gai ki laga site per na jaker seedha aapko hi iski pratikriya do.......sach mein
    अपने कई चेहरे से
    परेशान तुम भी
    सिंकती सी लगती हो
    तवे पर
    भीतर और बाहर
    bahut bahut khooob roti ke pakne se pahele na jane man ki gaherai mein kitni baate sikti hai
    दो रोटियों के बीच
    तुम ढूंढ रही होती हो
    स्वयं को
    कभी मुस्कुराती सी
    कभी खामोश
    isko parne ke baad aapki ek rachna yaad aa gai - कपडे सुखाती औरतें ....aisa hi kuch tha....

    उत्तर देंहटाएं
  7. दो रोटियों के बीच
    तुम ढूंढ रही होती हो
    स्वयं को
    कभी मुस्कुराती सी
    कभी खामोश
    --
    आपने
    रोटियों के माध्यम से
    मन की व्यथा बहुत चतुराई से
    प्रकट की है!

    उत्तर देंहटाएं
  8. कमाल की लेखनी है आपकी लेखनी को नमन बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर कविता.भावों का सुन्दर मिश्रण है

    उत्तर देंहटाएं
  10. औरत के मनोभावों का बहुत ही मार्मिक और संवेदनशील वर्णन..........
    बहुत ही अच्छी रचना.......

    उत्तर देंहटाएं
  11. दो रोटियों के बीच..कितना कुछ गुजर जाता है..बहुत उम्दा भाव!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. अरूण जी.. आज तो आपने सत्यजीत रे के एक टीवी नाटक अभिनेत्री की याद दिला दी.. एक आधे घण्टे में एक गृहलक्ष्मी किन किन परिस्थितियों में कितने अभिनय करती है उसे स्मिता पाटील ने बख़ूबी निभाया था... आज आपकी कविता में वही अभिनेत्री नज़र आई... फ़र्क सिर्फ इतना है कि यहाँ वक़्फ़ा दो रोटियोंके बीच का है...अति सुंदर!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. विषय पूर्णतया नया है कविता के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  14. दो रोटियों के बीच
    तुम ढूंढ रही होती हो
    स्वयं को
    कभी मुस्कुराती सी
    कभी खामोश
    न कितनी ही रोटियों के बीच जीवन यूं ही गुजर जाता है। बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरा मानना है किसी रचना को पढ़कर कोई और रचना याद आ जाए यह रचना के लिए अच्‍छी बात नहीं है। अर्चना गंगवार को आपकी कपड़े सुखाती औरतें याद आ गईं। यह कविता उस कविता की पासंग भी नहीं है। आपकी वह कविता पढ़कर ही मैं आपका फालोअर बना था।

    यहां जो कुछ आपने कहा है कि वह केवल दो रोटियों के बीच के समय में ही न घटता है, वह लगातार घटता रहता है। कविता में रोटियां का समय पैबंद की तरह लगता है। भाव स्‍पष्‍ट नहीं हैं और कविता में विचारों का क्रम बहुत बिखरा सा लगता है। सच कहूं तो निराश हूं इस कविता से।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अछे भाव के साथ बिम्बों का सधा प्रयोग।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बड़ा सूक्ष्म निरीक्षण है भाई ..गोया वैज्ञानिक न हुए !:)

    उत्तर देंहटाएं
  18. बनाते हुए रोटियाँ
    तुम ,
    दो रोटियों के बीच
    देखती हो स्वप्न


    जब तक
    बेल रही होती हो
    रोटियाँ
    तुम्हारे भीतर
    बह रही होती है
    नदी ए़क
    नदी में होती है
    मछलिया, जिनकी आँखों में
    होती है वही चमक
    जो रहती हैं
    तुम्हारी आँखों में
    देख कर मुझे
    laga khud ko dekh rahi hun

    उत्तर देंहटाएं
  19. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. यदि शिल्प पक्ष को थोड़ी सहजता से लिया जाये तो रोटी के बिम्ब की सहायता से आपने बहुत सारी मानवीय संवेदनाओं को उकेरने का लाजवाब एवं सराहनीय प्रयास किया है. काव्य-व्यस्था थोड़ी कमजोर है,मगर सशक्त भाव पक्ष ने उसकी भरसक भरपाई की है.बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  21. कविता तो बेशक अच्छी है पर रसोई में भी पहुँच गए.... अरे कहीं तो उसे भी चैन से जीने दो कहीं तो पीछा छोड़ो. हा ... हा ...

    उत्तर देंहटाएं