शनिवार, 5 जून 2010

ताकि बच सके पर्यावरण


फाइलों में
दबी हुई है
वृक्षारोपण की योजना
और
नदी की सफाई पर
दिया जा रहा है
मीडिया के समक्ष
प्रेजेनटेशन

वर्षा जल के
संग्रहण पर
बन रहे हैं
नियम एवं
अधिनियम

बाघों को
बचाने के लिए
बन रही है
नई योजना
और
तय किये जा
रहे हैं
ब्रांड अम्बेसडर


जंगलों को
बचाने के लिए
चल रहे हैं
हस्ताक्षर अभियान
शहर शहर


आयोजित हो रहे हैं
संगीत संध्या
फंड रेजिंग कार्यक्रम
क्विज़
लोग जा रहे हैं
विदेशी दौरों पर
वातावरण के संरक्षण के लिए


अलग से
बन रही हैं फिल्मे
विज्ञापन
डोक्युमेंटरी
पर्यावरण को बचने के लिए


बोर्ड रूम
होटलों की लोबी
मंत्रालयों और
सचिवालयों के साथ साथ
स्वयं सेवी संस्थाओं के कक्षों का
तापमान
बहुत बढ़ गया है
और
वातानुकूलित किया जा रहा है
उन्हें
ताकि
बच सके पर्यावरण
कम कटे वृक्ष
जल संरक्षित हो
नदियाँ दूषित ना हो


बंद कमरों में
बचाया जा रहा है
पर्यावरण

10 टिप्‍पणियां:

  1. बंद कमरों में
    बचाया जा रहा है
    पर्यावरण
    -----------
    खुद को बचा रहे लोग बहस करते हैं
    बन्द कमरे से निकलते हुए डरते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. बंद कमरों में
    बचाया जा रहा है
    पर्यावरण

    -बहुत सधा हुआ कटाक्ष!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया कटाक्ष ...यही होता आया है

    उत्तर देंहटाएं
  4. "बंद कमरों में
    बचाया जा रहा है
    पर्यावरण"
    सटीक व्यंग

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    इसे 06.06.10 की चर्चा मंच (सुबह 06 बजे) में शामिल किया गया है।
    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. बंद कमरों में तो घूस की बन्दर बाँट होती है. साजिश रची जाती है. काले कारनामो को छुपाने की जुगत सोची जाती है .दुनिया से मुह छुपाया जाता है पर्यावरण ....बंद कमरों में बैठ कर कैसे सुधरेगा ?

    उत्तर देंहटाएं
  7. "बंद कमरों में
    बचाया जा रहा है
    पर्यावरण"

    सचमुच लाजवाव.
    बेहतरीन अभिव्यक्ति बहुत गहरी बातें सीधा और पैना कटाक्ष

    उत्तर देंहटाएं
  8. अलग से
    बन रही हैं फिल्मे
    विज्ञापन
    डोक्युमेंटरी
    पर्यावरण को बचने के लिए
    ...पर्यावरण"
    सटीक व्यंग

    उत्तर देंहटाएं
  9. band kamro me aise hi praywaran ke liye shor machate rahne se kya hoga, ye to sabko pata hai.........:(
    lekin koi nahi jagrukta badhti rahegi
    fir wo din bhi aayega, jo band kamre se bahar bhi kuchh hoga..........:)

    ek swasth aur jagruk karne wali kavita......

    उत्तर देंहटाएं