सोमवार, 14 जून 2010

पम्फलेट

मुस्कुराते हैं
अखबारों के पन्नों के बीच
फंसे, गुंथे , लिपटे
पम्फलेट
ख़बरों पर
और उनकी घटती
विश्वसनीयता पर

ख़बरों के
कानो में
जाके जोर से चिल्लाते हैं
पूरी रंगीनियत के साथ
कि ख़बरों से
पहले पढ़े जाने लगे हैं वो...
पम्फलेट

ख़बरों और
अखबारों के लिए
ए़क बड़ी खबर हैं
ये महत्वहीन
पम्फलेट

9 टिप्‍पणियां:

  1. khabro me padhe jaane lage hain "pumplate"...:)
    haaan har din newspaper se pahle unko hi dekhta hoon main bhi............sayad koi scheme dikh jaye, sayad koi one plus one ki koi samagrii ...........ho..:P

    sayad vyangyatmak rachna na.......:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह...पैम्फलेट जैसी वस्तु पर भी आपने कविता लिख दी.बहुत गहरी दृष्टि पाई है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह!!!!! पेम्फलेट को भी नहीं छोड़ा .कितनी आसानी से उसकी महत्ता बता दी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. खबरों से पहले की खबर है ये तो

    सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी लगी आपकी कवितायें - सुंदर, सटीक और सधी हुई।
    मेरे पास शब्द नहीं हैं!!!!
    tareef ke liye arun ji....

    उत्तर देंहटाएं
  6. ्वाह्………क्या दूर की कौडी लाये हैं।

    उत्तर देंहटाएं