रविवार, 13 जून 2010

घर में जगह

ए़क घर
बनाया है
हमने भी
रख कर
सपनो को गिरवी

घर में जुटाई
जरुरत और
गैर जरुरत के
सामान
कुछ सुविधाएँ और
कुछ देखा देखी

ख्याल रखा
घर कैसा लगेगा
दोस्तों की नजरों में
फिक्र की
कैसा लगेगा घर
पडोसी की नजरों में

बच्चों के कोना का भी
रखा ध्यान कि
उनका घट न जाए
उनके दोंस्तों के बीच मान

सर्वेंट के लिए भी
कर लिया था इंतजाम
बस छूट गए तो
साल भर में इक बार आने वाले
माता पिता

और फिर
कर लिया समझौता
मन को समझा लिया
बस महीने भर की तो
होती है बात
सर्वएंट क्वार्टर में चल जाएगा
माता पिता का काम

घर में
नहीं थी बची
कोई जगह
अब


12 टिप्‍पणियां:

  1. ह्म्म्म्म्म्म्म्म

    माँ बाप का साथ है अगर तो खुशिया भी साथ होती है वरना कुछ नहीं साथ

    उत्तर देंहटाएं
  2. सर्वएंट क्वार्टर में चल जाएगा
    माता पिता का काम

    Aisa din kisi mata-pita ko naseeb na ho!

    उत्तर देंहटाएं
  3. Kaisi kadvi vidambana hai...afsos magar is duniya me aisa bhi hota hai..

    उत्तर देंहटाएं
  4. maarmik rachna sochne par majboor karne waali..kya ham itne begairat ho gaye hain...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ए़क घर
    बनाया है
    हमने भी
    रख कर
    सपनो को गिरवी....

    सर्वएंट क्वार्टर में चल जाएगा
    माता पिता का काम ....

    फिर घर रहा कहाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  6. अद्भुत, बेहतरीन, लाजवाब, विचारणीय पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  7. ए़क घर
    बनाया है
    हमने भी
    रख कर
    सपनो को गिरवी....

    apka lekhan umda hai aur apki soch ka sagar apar hai...

    उत्तर देंहटाएं
  8. kadwi sachchai hai ,jo saral shabdo me bayan ki hai.badhi...

    उत्तर देंहटाएं
  9. घर में
    नहीं थी बची
    कोई जगह
    अब
    वस्तुत: घर में जगह इसलिये नहीं क्योकि दिल मे नही है ...

    मार्मिक रचना बना दिया आपने तो अंतिम पंक्तियों तक आते आते

    उत्तर देंहटाएं
  10. घर में जगह इसलिये नहीं क्योकि दिल मे नही है ..

    उत्तर देंहटाएं